संयुक्त राष्ट्र ने चेतावनी दी है कि हजारों नागरिक यूक्रेन के लुहान्स्क क्षेत्र के एक प्रमुख शहर सेवेरोडनेत्स्क में फंसे हुए हैं, जहां इस समय भीषण लड़ाई चल रही है और आवश्यक आपूर्ति समाप्त हो रही है। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, रूसी और यूक्रेनी सेनाओं के बीच भीषण लड़ाई के परिणामस्वरूप सेवेरोडनेत्स्क में सभी तीन पुलों को नष्ट कर दिया गया है।

सेवेरोडनेत्स्क और पास के शहर लिसिचन्स्क पर कब्जा करने से मॉस्को को पूरे लुहान्स्क क्षेत्र का नियंत्रण मिल जाएगा, जिसमें से अधिकांश पर पहले से ही रूसी समर्थित अलगाववादियों का नियंत्रण है।

बीबीसी से बात करते हुए, संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मामलों के कार्यालय के प्रवक्ता सवियानो अब्रू ने कहा कि फंसे हुए कई नागरिक शहर के एजोट रासायनिक संयंत्र के नीचे बंकरों में शरण लिए हुए हैं।

चूंकि इस सप्ताह की शुरूआत में शहर से बाहर जाने वाला आखिरी पुल नष्ट हो गया था, इससे 12,000 बचे शेष निवासी वहां फंस गए हैं।

अब्रू ने बीबीसी को बताया, “पानी और स्वच्छता की कमी एक बड़ी चिंता है। यह हमारे लिए बहुत बड़ी चिंता का विषय है क्योंकि लोग पानी के बिना लंबे समय तक जीवित नहीं रह सकते हैं।”

उन्होंने कहा कि सेवेरोडनेत्स्क में खाद्य आपूर्ति और स्वास्थ्य प्रावधान भी समाप्त हो रहे थे।

एक सोशल मीडिया पोस्ट में, सेवेरोडनेत्स्क के मेयर ऑलेक्जेंडर स्ट्रीक ने कहा कि यूक्रेन का अभी भी शहर के पूर्वी जिले के नियंत्रण में है।

उन्होंने कहा, “दुश्मन को शहर के केंद्र की ओर वापस धकेलने के प्रयास किए जा रहे हैं। यह आंशिक सफलता और स्थानों पर सामरिक वापसी के साथ एक स्थायी स्थिति है।”

बीबीसी ने रिपोर्ट्स का हवाला देते हुए कहा कि सेवेरोडनेत्स्क का 70 प्रतिशत हिस्सा अब रूसी नियंत्रण में है।

 

 

ताजा खबरें

Leave a comment

Your email address will not be published.