योगी सरकार का दूसरा बजट पेश, जानें क्या है खास

शुक्रवार को यूपी के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने योगी सरकार का दूसरा बजट पेश कर दिया. वित्त मंत्री राजेश ने इस बार 4 लाख 28 हजार 384 करोड़ का बजट पेश किया है. जो पिछले 3 सालों की तुलना में करीब 11.5 फ़ीसदी ज्यादा है. साल 2017 में 3.84 लाख करोड़ रूपय का बजट पेश किया गया था.

वित्त मंत्री राजेश ने बजट पेश करने से पहले एक शेर पढ़ा. शेर में उन्होंने कहा-

साहिल से मुस्कुरा के तमाशा न देखिये
हमने ये खस्ता नाव विरासत में पायी है
बारिश के इंतज़ार में सर्दियां गुजऱ गयी
उठो जमी को चीर के पानी निकाल लो।

इस भारी भरकम बजट में योगी सरकार ने 5500 गेहूं खरीद के लिए केंद्र खोलने का लक्ष्य रखा है. इसके अलावा 5 लाख आवासों को आवंटन करने का भी लक्ष्य रखा गया है. बजट में 2757 करोड़ अल्पसंख्यक कल्याण के लिए दिए गए हैं. लखनऊ आगरा के लिए 500 करोड़, वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट के लिए 250 करोड़ और मुख्यमंत्री स्वरोजगार के लिए 100 करोड़ की धनराशि दी गई है. ग्रामीण क्षेत्रों को सौगात देते हुए 100 आयुर्वेदिक हस्पताल खोलने का भी लक्ष्य लिया गया है. यूपी में रोड निर्माण के लिए इस बजट में 11,343 करोड रुपए का फंडा अलॉट किया गया है. तो वहीं पुलों के निर्माण के लिए 1,817 करोड़ का फंड दिया गया है. प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत 2,873 करोड़ का, मिड डे मील के लिए 2,048 करोड़ का बजट अलॉट किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here