मेरठ: गवाहों को मिलती धमकी, कचहरी में होती मारपीट

मेरठ में गवाहों की हत्या और धमकाने देने के मामला रुकने का नाम नहीं ले रहा है, जहा पूर्व में दो गवाहों की हत्या कर दी गई थी और एक गवाह महिला को गोली मारी गई है उधर पुलिस धमकी देने वाले व हत्या करने वाले बदमाशों पर नकेल कसने में पूरी तरह से नाकाम साबित हो रही है. ताजा मामला मेरठ के कचहरी परिसर का है जहां अपने भाई की हत्या के मामले में गवाही देने आए गवाह मितन को जान से मारने की धमकी और मारपीट करने की कोशिश की गई. इस दौरान पुलिसकर्मियों ने बीच-बचाव करा दिया.

Threatens to meet witnesses fight in court at meerut    Threatens, meet witnesses, fight in court, meerut, cm yogi, yogi adityanath

मेरठ के थाना सरूरपुर क्षेत्र के गांव राजपुरा में चेतन नाम के लड़के की 2016 में हत्या कर दी गई थी इस हत्याकांड में मृतक की मां सावित्री और भाई मितन गवाह बने थे. मृतक चेतन के परिजन बनाम गवाह ने गांव के ही सुमित जाट पर हत्या करने के आरोप लगाए थे. हालांकि वर्तमान में सुमित जाट जेल में है जबकि उस पर 50000 का इनाम भी घोषित था. लेकिन इस दौरान भी सुमित जाट गवाहों को मारने की धमकी दे रहा था. जहां पीड़ितों ने एसएसपी मंजिल सैनी से सुरक्षा की गुहार लगाते हुए आरोप लगाया था कि उनकी जान को खतरा है, एसएसपी मंजिल सैनी ने मां और पुत्र दोनों गवाहों को गनर मोहिया करा दिया था. लेकिन बावजूद इसके करीब 5 दिन पूर्व मां सावित्री पर जानलेवा हमला किया गया और जंगल में काम करने के दौरान उनके सर में गोली मार दी गई.

फिलहाल घायल को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराकर उपचार कराया जा रहा है जबकि कचहरी में गवाही देने आए सावित्री के बेटे गवाह मितन को सुमित जाट ने ना केवल धमकाया बल्कि जान से मारने की कोशिश भी. हालांकि कचहरी परिसर में तमाशे के दौरान पुलिस ने बीच बचाव किया और गवाह को कोर्ट में भेज दिया. लेकिन सवाल यही है इस तरह से पुलिस की मौजूदगी में गवाहों को टारगेट किया जा रहा है और उन पर गोलियां तक चलाई जा रही है तो ऐसे में कैसे प्रदेश की कानून व्यवस्था दुरुस्त हो पाएगी, लेकिन देखना यह भी होगा कि इस मामले में सुरक्षा गार्डों पर क्या कार्रवाई होती है जिन्होंने सुमित जाट को धमकी देने की छूट दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here