इलाहाबाद में बढ़ सकती है बीजेपी की मुश्किलें

आने वाले दिनों में भारतीय जनता पार्टी को बड़ा झटका लग सकता है. इलाहाबाद के बड़े राजनीतिक चेहरे के रूप में जाने पहचाने वाले अरुण तिवारी जिनकी पृष्ठभूमि कांग्रेस की रही है, कांग्रेस के कई महत्वपूर्ण पदों पर भी रहे हैं. पिछले लोकसभा के चुनाव पार्टी के कुछ नेताओं के आचरण के वजह से भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे और इलाहाबाद संसदीय क्षेत्र के चर्चित सांसद श्यामाचरण गुप्ता के राजनैतिक प्रबंधन का भी काम देखते हैं और सतर्कता एवं निगरानी समिति जिसमें लगभग 48 विभाग जो केंद्र सरकार से संचालित होते हैं.

BJP problems may increase in Allahabad congress candidate will more powerful

आते हैं उनका सदस्य श्यामाचरण गुप्ता ने तिवारी को बनाया था. इधर राहुल गांधी के घर वासी अभियान का प्रभाव कहें या कांग्रेस के प्रति उनके दिल में जो प्रेम है उसको कहें या फिर भारतीय जनता पार्टी की गलत नीतियों का परिणाम कहें तिवारी पुनः घर वापसी का मन बना चुके हैं. इस क्रम में कांग्रेस के कई बड़े नेताओं से उनकी मुलाकात भी हो गई है. पिछले दिनों कांग्रेस सेवा दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष महेंद्र जोशी प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर प्रमोद पांडे महासचिव गुलाम नबी आजाद, राज बब्बर और कांग्रेस के बड़े नेता प्रमोद तिवारी से मुलाकात के बाद कांग्रेस में जाना लगभग निश्चित है.

घोषणा किसी भी वक्त हो सकती है तिवारी की इलाहाबाद संसदीय क्षेत्र में हर वर्ग में अच्छी पकड़ है. कई संसदीय चुनाव के प्रबंधन का अनुभव भी है इसलिए निश्चित रूप से भाजपा छोड़ने से भाजपा को नुकसान और कांग्रेस वापसी से कांग्रेस को निश्चित रूप से फायदा होगा. तिवारी की ब्राह्मणों और मुसलमानों में अच्छी पैठ मानी जाती है यदि तिवारी कांग्रेस में शामिल होते हैं तो यह निश्चित रूप से भाजपा के लिए बड़ा राजनीतिक झटका होगा.

 

वीडियो के जरिए देखे सियासत पर भारी थप्पड़

अन्य बड़ी खबरें

मसूरी में फिल्म के माध्यम से छात्रों और महिलाओं को किया जागरूक

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के प्रधानाचार्यों की बैठक का आयोजन

सितारगंज में एसएसपी ने किया सलाना औचक निरीक्षण

139 करोड़ के श्रम घोटाले की हो सीबीआई जांच- तिलकराज कटारिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here