धोनी के इस छक्के ने पूरा किया भगवान का सपना

आज से ठीक 7 साल पहले भारत ने 1983 के बाद दोबारा से विश्व कप पर कब्जा किया था. 2 अप्रैल 2011 को महेंद्र सिंह धोनी के जीत के छक्के के बाद भारत ने यह इतिहास रचा था.

Dhoni sixes fulfilled cricket God sachin tendulkar dream  Dhoni sixes, cricket match, cricket final match, world cup, cricket God, sachin tendulkar dream
MS Dlhoni

2011 की इस जीत के बाद भारतीय टीम वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के बाद तीसरी ऐसी टीम थी जिसने एक बार से ज्यादा इस खिताब पर कब्जा किया था. 2011 का वर्ल्ड कप फाइनल मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया था जहां पर भारतीय टीम ने श्रीलंका को हराकर कई सारे मिथ तोड़े थे. भारत पहला ऐसा देश बना था जिसने मेजबानी के साथ-साथ खिताब पर कब्जा किया था इससे पहले किसी भी टीम ने अपनी जमीन पर वर्ल्ड कप नहीं जीता था.

टीम इंडिया इस मैच में लक्ष्य का पीछा करते हुए चैंपियन बनी थी. भारत तीसरी टीम बनी थी जिसने लक्ष्य का पीछा करते हुए खिताब हासिल किया था. अब तक जितने भी वर्ल्ड कप फाइनल हुए हैं उसमें शतक बनाने वाली टीम ही जीती है लेकिन ऐसा पहली बार हुआ था जब महेला जयवर्धने का शतक बेकार हुआ था. महेला जयवर्धने ने 103 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली थी और भारत को 275 रनों का लक्ष्य दिया था.

लेकिन कोहली और गंभीर की 109 रनों की पार्टनरशिप ने श्रीलंका की उम्मीदों पर पानी फेर दिया और अंत में धोनी के छक्के ने भारतीय टीम को 10 गेंद रहते 6 विकेट से जीता दिया. जीत के बाद लोगों मे ऐसा उत्साह देखा गया था कि लग रहा था कि पूरे देश में दिवाली आ गई हो.

कपिल शर्मा की एक्स गर्लफ्रेंड के साथ दिखे सुनील ग्रोवर

लाइव अपडेट: हरियाणा की सड़कों को किया जाम, गवालियर सेना के हवाले

टाइगर श्रॉफ से पहले इन्हें डेट करती थी दिशा, ब्रेकअप की वजह जानकर आप रह जाएंगे हैरान

इरफान खान की फिल्म ‘ब्लैकमेल’ की स्पेशल स्क्रीनिंग के बाद अमिताभ बच्चन ने जाहिर की ऐसी भावनाएं