फीफा वर्ल्ड कप: जाने वर्ल्ड के कुछ बेहतरीन डिफरेंस के बारे में

फुटबॉल मैच को जीतने के लिए किसी भी टीम को पुरजोर जोर लगाना पड़ता है, जितना जोर उसके स्ट्राइक खिलाड़ी लगाते हैं इतना ही जोर डिफेंस लाइन पर खड़े डिफेंडर भी लगाते हैं. अगर किसी भी टीम का डिफेंस लाइन इतनी सक्षम ना हो तो बेहद ही मुश्किल से मैच जीत जाता है और अगर डिफेंडर स्ट्रांग हो तो वह गोल की हर संभावनाओं को खत्म करने का हर संभव प्रयास करते हैं. फुटबॉल में अक्सर देखा गया है कि स्ट्राइकर को ज्यादा पहचान मिलती है. लेकिन डिफेंस की भूमिका किसी से कम नहीं होती. आइए नजर डालते हैं कुछ दुनिया के बेहतरीन डिपेंडेंस पर-

फिलिप लहाम (जर्मनी)

जर्मनी को पिछले वर्ष विश्वकप में किताब दिलाने वाले उनके कप्तान और डिफेंडर फिलिप लहाम को भी सबसे अच्छे डिफेंडरों में गिना जाता है. वर्ष 2014 के विश्वकप में जर्मनी को किताब दिलवाने के बाद फिलिप लहाम ने अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल से संन्यास ले लिया था.

काफु (ब्राजील)

चार बार विश्व कप विजेता रही ब्राजील का प्रतिनिधित्व करने वाले का काफु दुनिया के सबसे बेहतरीन इंडिपेंडेंस में गिना जाते है. काफु एक डिफेंडर है जो अपने दायरे से निकलकर विरोधी खेमे में चढ़कर खेलते हैं. ब्राजील को 2002 का विश्व चैंपियन बनाने में काफु का सबसे बड़ा हाथ था.

फ्रांज बेकनबॉयर (जर्मनी)

जर्मनी के फ्रांज बेकनबॉयर को भी अच्छे डिफेंडरों की सूची में शामिल किया जाता है. उन्होंने 1974 के विश्वकप में अपनी कुशल कप्तानी से राष्ट्रीय टीम को चैंपियन बनाया था. 1978 विश्वकप में एक मुकाबले में हाथ के फ्रैक्चर के बावजूद भी फ्रांज खेलने उतरे थे. फ्रांज को एक अटैकिंग सुपर बैक के रूप में जाना जाता था जो कि पूरे 90 मिनट के खेल में अपनी पूरी क्षमता के साथ दौड़ते नजर आते थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here