मसूरी मालरोड का हाल बेहाल

मसूरी मालरोड में एक बार मोबाईल केबल डालने को लेकर खुदाई का काम शुरू हो गया है, जिससे स्थानीय लोगो के साथ देश विदेश से आने जाने वाले पर्यटकों को खासी परेशानी हो रही हैं. वहीं खुदाई के कारण लगातार जाम लग रहा हैं. जिससे लोगो के साथ स्कूली छात्र-छात्राओं को खासी दिक्कते पेश आ रही है.

पूर्व पालिकाध्यक्ष ओपी उनियाल और स्थानीय निवासी अजय बहुगुणा और राजेश गोयल ने पालिका प्राशासन पर एक बार फिर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि पालिकाध्यक्ष मनमोहन सिंह मल्ल और अधिकारियों के द्वारा एक बडे भ्रष्टाचार को अंजाम देकर मोबाईल कम्पनी को पालिका के कोष में कुछ पैसा जमा कराकर मालरोड को खोदने की अनुमति दी गई है. जबकि सूत्रो के अनुसार अधिकारियों द्वारा तैयार किये गए रोड मरम्मत के एस्टीमेट को दरकिनार कर मात्र कुछ पैसा जमा कर बाकि पैसो को लेकर बडा भ्रष्टाचार किया गया हैं. उन्होंने कहा कि हाल में करोडों रूप्ये खर्च कर लोक निर्माण विभाग के द्वारा मालरोड़ का डामरीकरण कर सौंदर्यकरण किया गया था, जिसको अभी कुछ ही महिने हुए परन्तु पालिका में व्याप्त भ्रष्टाचार के कारण एक बार फिर मालरोड को खोदने का काम शुरू हो गया है. उन्होंने जिलाधिकारी से मांग की वह तत्काल मामले का संज्ञान लेकर मालरोड को खोदने से रोके और अगर मोबाईल केबल डालनी भी है, तो उसके मालरोड के बाहर बाहर ले जाकर डाले जिससे मालरोड को खुदने और क्षतिग्रस्त होने से बचाया जा सके.

बता दें कि मालरोड पर मोबाईल कम्पनी द्वारा केवल डालने को लेकर पालिका के कोष में 22 लाख रूप्ये जमा किये गए. परन्तु अगर एक्चुयल इस्टीमेट की बात करते तो मालरोड की मरम्मत करने में करोडों रूप्ये खर्च हो जाते हैं. वही फरवरी माह में जब स्कूली छात्र-छात्राओं की परिक्षा प्रराम्भ हो गई है. वहीं कुछ ही दिनों में पर्यटकों सीजन शुरू होने को है. ऐसे में मालरोड को खोद का क्षतिग्रस्त किया जा रहा है. जिसका खामियाजा स्थानीय जनता को भुगतना पडेगा. परन्तु पालिका प्रशासन के जनप्रतिनिधि और अधिकारी कुछ पैसो की लालच में आकर मसूरी के दिल कहे जाने वाली मालरोड़ का बदसूरत बनाने का काम किया जा रहा है, जिसका विरोध स्थानीय जनता कर रही हैं.

जनहित के लिए सुनील सोनकर की रिर्पोट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here