लालकुंआ: हाथियों का आतंक, घर से बेघर हुए ग्रामीण

लालकुंआ के ग्रामीण क्षेत्रों में रोजाना हाथियों के आतंक से कास्तकारो काफी परेशान है. जंगली हाथियों ने अब फसलों के साथ-साथ कास्तकारो और उनके घरों पर भी हमला करना शुरू कर दिया है. किसानों द्वारा वन विभाग से बार-बार गुहार लगाने के बावजूद भी हाथियों से फसलों को बचाने के लिए वन विभाग कोई भी ठोस उपाय नहीं निकाल पा रहा है.

lalakua panic of elephants homeless rural uttarakhand, lalakua, elephants, rural, persons, homeless
khet

नया मामला भानदेव नवाड़ गांव का है जहां देर रात हाथियों ने किसानों के फसलों सहित उनके घरों पर हमला बोल दिया. गनीमत यह रही किसानों के परिवारो ने भाग कर अपनी जान बचाई इस दौरान हाथियों ने उनके झोपड़ियो को भी तोड़ दिया, जबकि कई बीघा गेंहू और सरसों की फसल को बर्बाद कर खेतों को बंजर कर दिया.

वहीं हाथियों द्वारा ग्रामीण इलाकों में आ जाने से लोग दहसत में है जबकि वन विभाग ग्रामीण इलाकों में हाथियों की घुसपैठ को रोक पाने के कोई कारगर उपाय नहीं कर पा रहा है. वहीं किसानों ने वन विभाग व प्रशासन से अपनी फसलों की सुरक्षा के लिए कदम उठाने की मांग की है, गौरतलब है की एक सप्ताह में इन हाथियों के झुण्ड ने अलग-अलग जगहों पर आतंक फैला कर दर्जनों किसानो की एकड़ फसलों को बर्बाद कर किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here