मसूरी में कांग्रेस में उत्साह

राहुल गांधी सोमवार को 132 साल पुरानी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुन लिए जाएंगे. चूंकि किसी और ने नामांकन दाखिल नहीं किया है, इसलिए नाम वापसी के अंतिम दिन यानी सोमवार को उन्हें निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिया जाएगा. वैसे औपचारिक रूप से कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में उनकी ताजपोशी 16 दिसंबर को होगी. राहुल गांधी के निर्विरोध अध्यक्ष बनने पर उत्तराखण्ड कांग्रेस पार्टी में खासा उत्साह का महौल है.

राहुल गांधी सोमवार को 132 साल पुरानी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुन लिए जाएंगे. चूंकि किसी और ने नामांकन दाखिल नहीं किया है, इसलिए नाम वापसी के अंतिम दिन यानी सोमवार को उन्हें निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिया जाएगा. वैसे औपचारिक रूप से कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में उनकी ताजपोशी 16 दिसंबर को होगी. राहुल गांधी के निर्विरोध अध्यक्ष बनने पर उत्तराखण्ड कांग्रेस पार्टी में खासा उत्साह का महौल है

पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं की माने तो राहुल के कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने से कांग्रेस में नई उर्जा का संचार होगा और कांग्रेस एक बार फिर देश में अपनी सरकार बनायेगी. उत्तराखण्ड कांग्रेस के उपाध्यक्ष जोत सिंह बिश्ट ने बताया कि राहुल जी के कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने पर सभी कांग्रेसी काफी खुश और उत्साहित है. उन्होने बताया कि देश के हर वर्ग खासकर कमजोर तपके के लोगो में नई उर्जा का संचार हो रहा है. वही किसानों के हक और उनकी जमीनों को बचाने का काम राहुल ने किया. उन्होनें कहा कि राहुल लगातार लोगों कि समस्याओं को लेकर केन्द्र कि सरकार को घेरने का काम कर रहे है और यहीं कारण है कि लोगों का झुकाव राहुल गांधी ओर हुआ हैं.

यही कारण है कि गुजरात में कांग्रेस के प्रति नया वतावरण बना है. राहुल के नेतृत्व के प्रति विश्वास उत्पन्न हुआ है और आने वाले समय में देश कि जनता राहुल को समर्थन देकर वर्तमान सरकार को उखाड फैकने का काम करेगी. बता दें कि 47 साल के राहुल कांग्रेस का शीर्ष पद संभालने वाले नेहरू-गांधी परिवार के छठे सदस्य होंगे. वह पिछले 13 साल से मां और वर्तमान पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के मार्गदर्शन में राजनीति की बारीकियां सीख रहे थे. ऐसे प्रतिकूल समय में राहुल की ताजपोशी को भले ही नया दौर बताया जा रहा हो, लेकिन उनके सामने चुनौतियों की फेहरिस्त लंबी होगी. क्योंकि गिने-चुने प्रदेशों में ही उसकी सरकारें रह गई हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here