होली के रंगों में डूबा मसूरी

देश भर में होली के कई रंग हैं. यूपी में ब्रज की रास-रंग वाली और बरसाने की लट्ठमार होली से लेकर पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर में वैष्णव होली दोल तक. लेकिन होली के इन रंगों में सबसे अलग रंग है उत्तराखंड की होली. जहा पर विभिन्न संस्कृति के साथ होली मनाई जा रही है. बुढे हो या जवान, महिलाये या बच्चे सभी रंगो के पर्व होली पर रंग में झूमते नजर आ रहे हैं जिसमें कई लोग एक दूसरों को गुलाल लगाकर होली कर जश्न मना रहे है तो कई डीजे के गाने में झूम रहे है तो कई पांच सितारा होटल अपने मेहमानों के लिये विशेष व्यंजना तैयार करने में जुटे हुए है.

holi festival celebration in mussoorie uttrakhand holi festival, holi celebration, mussoorie, uttrakhand
holi celebration

नगर पालिका परिषद मसूरी द्वारा अपनी संस्कृति से लोगों को रूवरू करवाने के लिये बैठकी होली का मसूरी शहीद स्थल पर आयोजन किया गया. जहां हेमवती नंदन बहुगुणा गढवाल विश्वविद्यालय ने डा दातारात पुरोहित के नेतृत्व में शास्त्रीय और उत्तराखंड के लोक गीत प्रस्तुत किये. जिसने सभी के मन को मोह लिया. सभी लोग होली के रस में डूब गए. डा दाताराम पुरोहित ने बताया कि उत्तराखण्ड में खासकर कुमाऊंनी होली इस मायने में भी अलग है कि इसकी शुरुआत बसंत पंचमी के दिन से ही हो जाती है. इस दिन से घर की बैठकों या छतों में बैठकी होली का आयोजन शुरू हो जाता है. गांवों में बैठकी होली की महफिल जमने लगती है, जिनमें होल्यार (होली गाने वाले) हारमोनियम, तबला और हुड़के की थाप पर होली के गाने शुरू कर देते हैं. ये होलियां दादरा और ठुमरी जैसे शास्त्रीय रागों पर गाई जाती हैं.

इन बैठकी होलियों में गायन के दौरान राग धमार से आह्वान होता है. राग श्याम कल्याण से शुरुआत होती है और फिर अलग-अलग रागों में होलियां गाई जाती हैं . संगीत की शुद्धता, शास्त्रीयता और श्रृंगार के जरिये अद्भुत समां बंधता है. बैठकी होली में गायन का समापन राग भैरव से होता है. उन्होंने बताया कि आज की युवा पीडी अपनी संस्कृति से बहुत दूर पाश्यात सस्कृति की ओर आक्रर्शित हो रही है ऐसे में नगर पालिका परिषद द्वारा आयोजित बैठकी होली का कार्यक्रम किया गया है.

वीडियो के जरिए देखे सियासत पर भारी थप्पड़

और अधिक खबरें

किच्छा में मनाया गया होली का पर्व

भाजपा नेता की पुलिस प्रशासन को धमकी, खड़ें हुए कई सवाल

होली से पहले तंत्र-मंत्र के कारोबार ने पकड़ा जोर

अपने पीछे इतनी दौलत छोड़ गई श्रीदेवी

मध्यप्रदेश उपचुनाव परिणाम 2018: मुंगावली सीट पर कांग्रेस की जीत, कोलारस में भी बढ़त बनाए हुए कांग्रेस

आंगनवाड़ी केंद्र मकरंदपुर प्रथम में छोटे बच्चों ने मनाई होली

पुलिस ने की अमन कमेटी के साथ बैठक, होली और जुमे की नमाज़ को लेकर हुई चर्चा

मेरठ में दिल दहला देने वाला मामला, युवती पर डाला तेजाब

श्रीदेवी को दी गई मुखग्नि

दिल्ली के दिल में दिनदहाड़े हुई फायरिंग, 1 शख्स घायल

परंपरागत साधु-संतों से अलग थे जयेंद्र सरस्वती, कई बार विवादों में भी रहे

अलविदा श्रीदेवी : मौत के पीछे छुपा राज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here