मसूरी जागृति मिशन के तहत गरीब बच्चों को निशुल्क शिक्षा

मसूरी गुरू नानक फिफत सेंटेनरी स्कूल के तत्वाधान में मसूरी के शासकीय व अशासकीय विद्यालयों के बच्चों के लिए पांचवा निशुल्क कोचिंग का शुभारंभ किया गया व इस मौके पर निर्धन छात्र-छात्राओं को कापी-किताबें वितरित की गई. वहीं कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पालिकाध्यक्ष मनमोहन सिंह मल्ल ने निशुल्क कोचिंग का शुभारंभ करते हुए स्कूल के इस प्रयास की सराहना की हैं.

उन्होंने कहा कि स्कूल के इस प्रयास से मसूरी के हिंदी माध्यम के स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को लाभ मिलेगा. जिसकी जितनी सराहना की जाये वह कम हैं. उन्होंने कहा कि गुरू नानक स्कूल पूर्व से ही सेवा का कार्य कर रहा है तथा पूर्व में भी एक हिंदी माध्यम का विद्यालय खोलकर गरीब बच्चों को शिक्षा प्रदान कर रहा हैं. वहीं स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी पहल करने जा रहा हैं जिसका समाज को लाभ मिलेगा. स्कूल के प्रधानाचार्य अनिल तिवारी और डीन एन.डी.सहानी ने बताया कि जागृति कार्यक्रम के तहत मसूरी के विद्यालयों को निशुल्क कोचिंग देने का बीड़ा उठाया गया है और जिस तरह स्कूलों ने सहयोग किया इससे स्कूल का उत्साह दुगना हो गया हैं. यह योजना स्कूल के सामाजिक सेवा के क्षेत्र के तहत की जा रही हैं. ताकि जरूरतमंद गरीब छात्र छात्राओं को इसका लाभ मिल सके व उनका सर्वांगीण विकास व उत्थान हो सके.

उन्होंने बताया कि पिछले चार सालो से स्कूल प्रबंधन द्वारा गरीब बच्चों को निशुल्क कोचिंग दी जा रही हैं. जिसमें मसूरी और आसपास के छात्र-छात्राएं बडी संख्या में प्रतिभाग कर रहे हैं. उन्होने बताया कि इस बार दूर-दराज को छात्र-छात्राओं को लाने ले जाने के लिये स्कूल द्वारा बस का भी प्रंबध किया गया हैं. वहीं उन्होंने कहा कि जागृति के तहत बच्चों को दी जा रही निशुल्क शिक्षा के लिये बच्चों के अभिवावकों को भी आगे आना चाहिये और बच्चों को छुटटीयों में पढ़ने के लिये प्रेरित करना चाहिये जिससे जागृति जैसे अभिायान को लाभ मिल सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here