मसूरी में मनाया गय डॉ. भीमराव अंबेडकर परिनिर्वाण दिवस

मसूरी के लाइब्रेरी स्थित अंबेडकर चैक पर भारतीय दलित साहित्य अकादमी मसूरी द्वारा भारत रत्न डॉ. भीमराव अंबेडकर की 62वां महापरिनिर्वाण दिवस मनाया गया. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उत्तराखण्ड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, मसूरी विधायक गणेष जोषी सहित मसूरी के राजनैतिक, सामाजिक संगठनों के साथ स्कूली छात्र-छात्राओं ने डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की.

Dr Bhimrao Ambedkar Parvinder Day was celebrated at Mussoorie   Dr Bhimrao Ambedkar, Parvinder Day, celebrated at Mussoorie

लोगों ने डॉ. भीमराव अंबेडकर की जीवन पर प्रकाश डाला. इस दौरान प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि अंबेडकर के नेतृत्व में बनाए गए संविधान का लोहा पूरा विश्व मानता है जिसमें सभी वर्गों और समाज के बारे में सोचा गया है. उन्होंने कहा कि उनके द्वारा विधानसभा के साथ सभी सरकारी कार्यलायों में भीमराव अंबेडकर की तस्वीर लगाई गई. वह सभी को उनके मार्ग दर्षन पर चलने का आह्वान किया.

मसूरी विधायक गणेष जोषी ने कहा कि डॉ. अंबेडकर ने देश को आजाद करने की लड़ाई के साथ साथ देश में दबे-कुचले समाज को समानता का अधिकार दिलाने के लिए भी लड़ाई लड़ी और संविधान का निर्माण कर देश को नई दिशा दी. उन्होंने कहा कि अंबेडकर को सच्ची श्रद्धांजलि तभी होगी जब दलित समाज के बच्चों को शिक्षित करेंगे. बिना शिक्षा के कोई भी समाज तरक्की नहीं कर सकता और अंबेडकर एक समाज के नहीं बल्कि जनजन के मार्गदर्शक थे. उन्होंने कहा कि अंबेडकर ने संविधान की रचना कर धर्मनिरपेक्ष देश को बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया व समाज को संकीर्ण मानसिकता से दूर कर समाज में समानता के लिए कार्य किया व समाज को बांटने वालों से सतर्क रहने का आह्वान किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here