मसूरी में फिल्म के माध्यम से छात्रों और महिलाओं को किया जागरूक

मसूरी में मात्र शक्ति मंच द्वारा मसूरी की दूर दराज गांव की दर्जनों छात्रों और महिलाओं को मसूरी के कानिर्वाल सिनेमाघर में बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की माहवारी पर खुलकर बात करने को प्रेरित करती हालिया रिलीज फिल्म पैडमैन को दिखाया गया और छात्रों और महिलाओं को स्वच्छता और माहवारी के प्रति जागरूकता किया गया. इस मौके पर छात्रों और ग्रामीण महिलाये जिन्होंने आज तक सिनेमाधर नहीं देखे थे उनको मंच के द्वारा फिल्म दिखाई गई जिसको सभी महिलाओं और छात्रों ने सहराया और स्वच्छता और महावारी के प्रति सीख लेते हुए बदलते दौर के साथ जीने के बारे में प्रेरणा ली.

मसूरी में फिल्म के माध्यम से छात्रों और महिलाओं को किया जागरूक Aware of the students and women through film in Mussoorie Awareness, students and women, through film, Mussoorie, uttrakhand मसूरी में मात्र शक्ति मंच द्वारा मसूरी की दूर दराज गांव की दर्जनों छात्रों और महिलाओं को मसूरी के कानिर्वाल सिनेमाघर में बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की माहवारी पर खुलकर बात करने को प्रेरित करती हालिया रिलीज फिल्म पैडमैन को दिखाया गया और छात्रों और महिलाओं को स्वच्छता और माहवारी के प्रति जागरूकता किया गया. इस मौके पर छात्रों और ग्रामीण महिलाये जिन्होंने आज तक सिनेमाधर नहीं देखे थे उनको मंच के द्वारा फिल्म दिखाई गई जिसको सभी महिलाओं और छात्रों ने सहराया और स्वच्छता और महावारी के प्रति सीख लेते हुए बदलते दौर के साथ जीने के बारे में प्रेरणा ली. समाजिक कार्यकर्ता मीरा सकलानी ने बताया कि मात्र शक्ति मंच द्वारा महिला सशक्तिकरण के साथ उनके विकास के लिए लगातार काम किया जा रहा है व मंच द्वारा पैडमेन फिल्म दिखाकर उनको स्वच्छता और माहवारी के प्रति जागरूक करने का प्रयास किया गया. उन्होंने बताया कि गांव में रहने वाले लोगों के लिए सिनेमाघरों तक पहुंचना आसान नहीं है. ऐसे में ग्रामीणों तक मासिक धर्म के समय स्वच्छता की बात पहुंचाने को लेकर इस फिल्म में बताया गया है. उन्होंने कहा कि हमारे देश में करीब 82 फीसदी महिलाएं हैं, जो सैनिटरी पैड्स की पहुंच से दूर हैं. ऐसे में आम जीवन में भी इस पर खुलकर बात कर लोगों को जागरूक किया जा सकता है. प्रधानाचार्य निमेश डंगवाल ने बताया कि महिलाओं से जुड़े पीरियड और सैनिटरी पैड जैसे गंभीर मुद्दे पर बनी इस फिल्म को सभी मौजूद महिलाओं के साथ छात्रों ने खूब पसंद किया व फिल्म के जरिए लोगों को जागरूक करने की कोशिश की गई है कि इस मुद्दे पर खुलकर बात करनी चाहिए न कि झिझक महसूस करनी चाहिए. उन्होंने मात्र शक्ति मंच से जुड़ी महिलाओं का भी उनके स्कूल के छात्रों के साथ ग्रामीण महिलाओं को पैडमैन फिल्म दिखाने के लिये आभार व्यक्त किया.

समाजिक कार्यकर्ता मीरा सकलानी ने बताया कि मात्र शक्ति मंच द्वारा महिला सशक्तिकरण के साथ उनके विकास के लिए लगातार काम किया जा रहा है व मंच द्वारा पैडमेन फिल्म दिखाकर उनको स्वच्छता और माहवारी के प्रति जागरूक करने का प्रयास किया गया. उन्होंने बताया कि गांव में रहने वाले लोगों के लिए सिनेमाघरों तक पहुंचना आसान नहीं है. ऐसे में ग्रामीणों तक मासिक धर्म के समय स्वच्छता की बात पहुंचाने को लेकर इस फिल्म में बताया गया है. उन्होंने कहा कि हमारे देश में करीब 82 फीसदी महिलाएं हैं, जो सैनिटरी पैड्स की पहुंच से दूर हैं. ऐसे में आम जीवन में भी इस पर खुलकर बात कर लोगों को जागरूक किया जा सकता है.

वीडियो के जरिए देखे सियासत पर भारी थप्पड़

प्रधानाचार्य निमेश डंगवाल ने बताया कि महिलाओं से जुड़े पीरियड और सैनिटरी पैड जैसे गंभीर मुद्दे पर बनी इस फिल्म को सभी मौजूद महिलाओं के साथ छात्रों ने खूब पसंद किया व फिल्म के जरिए लोगों को जागरूक करने की कोशिश की गई है कि इस मुद्दे पर खुलकर बात करनी चाहिए न कि झिझक महसूस करनी चाहिए. उन्होंने मात्र शक्ति मंच से जुड़ी महिलाओं का भी उनके स्कूल के छात्रों के साथ ग्रामीण महिलाओं को पैडमैन फिल्म दिखाने के लिये आभार व्यक्त किया.

 

अन्य बड़ी खबरें 

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के प्रधानाचार्यों की बैठक का आयोजन

सितारगंज में एसएसपी ने किया सलाना औचक निरीक्षण

139 करोड़ के श्रम घोटाले की हो सीबीआई जांच- तिलकराज कटारिया

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here