नगर पालिका परिषद में एक और घोटाला

मसूरी नगर पालिका परिषद द्वारा मसूरी के माउट रोज केमल बैंक रोड़ पर बनाई जा रही करीब 20 दुकानों के निर्माण पर एक बार फिर सवाल खड़े हो गए है. बताया जा रहा है कि जहां पालिका प्रशासन दुकानों का निर्माण कर रहा है वो पालिका की जगह ही नहीं है. दुकान की जमीन के मालिक हरीश और चंद्रा सहानी द्वारा निर्माण स्थल पर पहुंच कर हंगामा कर निर्माण कार्य को रूकवाया गया. बता दें कि पूर्व में भी नगर पालिका मसूरी द्वारा मसूरी के लंढौर मार्ग पर लाखों रूपए खर्च कर कई दुकानों का निर्माण करवाया जा रहा था. लेकिन अवैध रूप और प्राइवेट भूमि पर दुकानों का निर्माण की शिकायत के बाद उक्त काम को रोक दिया गया. जिसके बाद फिर लाखों रुपए खर्च कर प्राईवेट भूमि पर मसूरी पालिका द्वारा कई दुकानों का निर्माण करवाया जा रहा है. जिसपर फिलहाल रोक लग गई है.

बता दे कि पूर्व में सभासद शशि रावत द्वारा उक्त दुकानों के अवैध निर्माण की शिकायत सुप्रीम कोर्ट मोनीटरींग कमेटी को भी की गई थी. जिसका संज्ञान लेते हुए कमेटी ने संबधित विभाग के अधिकारियों को तलब किया था. जिसपर जबाब देते हुए संबधित विभाग ने भी उक्त निर्माण को अवैध माना है और शीर्घ कारवाई करने की बात कही है.

सवाल उठता है कि क्या कोई भी योजना से पूर्व नगर पालिका प्रशासन द्वारा भू-अभिलेख और मानचित्र का परीक्षण नहीं किया जाता और जनता की गाड़ी कमाई को अपनी गलतियों के कारण पानी में बहा दिया जाता है. पत्रकारों से वार्ता करते हुए हरीश और चंद्रा सहानी ने बताया कि उनके द्वारा 1987 में उक्त भूमि बिहार के राज घहराने से खरीदी गई थी. जिसके सभी प्रमाण उनके पास मौजूद है वह नगर पालिका मसूरी में उक्त भूमि का दाखिला खारिज भी करवा रखा है.

उन्होंने बताया कि उनके चौकिदार ने उनको उनकी भूमि पर नगर पालिका परिषद के द्वारा अवैध रूप से उनकी भूमि पर दुकानों का निर्माण करने की सूचना दी गई. जिसके बाद वह अपने भाई के साथ मसूरी पहुंचे तो यहां का नजारा देख हैरान हो गए. जिसके बाद उनके द्वारा मसूरी पुलिस, एसडीएम मसूरी और मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण में शिकायत की गई और उक्त निर्माण को ध्वस्त करने के साथ पूर्व की भांति रखने का आग्रह किया गया. स्थानीय निवासी नरेश आंनद ने पालिका प्रशासन पर घोटाले और भ्रष्टाचार का गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि पालिकाध्यक्ष मनमोहन सिंह मल्ल सभी नियमों को ताख पर रखकर अपने निजी स्वार्थ को साध रहे है. अपने लोगों को फायदा पहुंचाने का काम कर रहे है, जिससे अगामी चुनाव में उनको लाभ मिल सके.

अन्य बड़ी खबरें-

दिल्ली के दिल में दिनदहाड़े हुई फायरिंग, 1 शख्स घायल

जीतन राम मांझी के एक बयान से आया बिहार की राजनीति में भूचाल

परंपरागत साधु-संतों से अलग थे जयेंद्र सरस्वती, कई बार विवादों में भी रहे

मध्यप्रदेश उपचुनाव परिणाम 2018: दोनों जिलों में कांग्रेस ने बना रखाी है बढ़त

अपने पीछे इतनी दौलत छोड़ गई श्रीदेवी

अलविदा श्रीदेवी : मौत के पीछे छुपा राज

RHC में निकली भर्तियां, जल्द करें आवेदन

दुनिया की सबसे बड़ी भर्ती के लिए करें जल्द आवेदन

आनंद महिंद्रा ने दिया एप्पल के को-फाउंडर को करारा जवाब, जाने क्यों

एक ही झटके में चली गई हजारों नौकरियां, जाने क्या है मामला

आता है ज्यादा पसीना, तो हो जाएं सावधान

जानें करोड़पति गांव की कहानी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here