निजी विचारों के जगत में वैचारिक संक्रमण

जब आपके वैचारिक जगत के भीतर राजनीत की संकीर्णता प्रवेश करने लगती है तो आप धीरे-धीरे मानसिक विक्षिप्तता के शिकार हो जाते हैं। आप देश के भीतर हर मसले को अपने संकीर्ण वैचारिक राजनीत के चश्मे से देखते हैं। यहां दिक्कत यह नहीं है कि आप हर मसले को अपने संकीर्ण वैचारिक चश्मे से देखते हैं बल्कि यह प्रवृत्ति तब भयानक रूप ग्रहण कर लेती है जब आपको पता होता है कि यह कार्य गलत हो रहा है, देश को उपेक्षा का शिकार बनाया जा रहा है लेकिन फिर भी आप शुतुरमुर्ग की तरह रेत में सिर गाड़े रहते हैं। केवल इसलिए, क्योंकि आपका अपना वैचारिक जगत की किसी राजनैतिक संकीर्णता का गुलाम हो चुका है और यह उपेक्षित कारनामा आपका अपना वैचारिक दल निष्पादित कर रहा होता है।

आपकी इस बीमारी में देश की अक्षुणता आपके लिए मायने नहीं रखती है, देश की बुनियादी तरक्की मायने नहीं रखती है, बल्कि आपके लिए आपके वैचारिक विध्वंस का वाहक और प्रसारक मायने रखता है। आप अपने आप को अथॉरिटी मानते है, आप फैसला ऑन द स्पॉट में विश्वास करने लगते हैं, आप कानून और संविधान को हाशिये पर धकेल देते हैं। आप अकेले स्वयं को हिंसक भीड़ में तब्दील कर देते हैं। लेकिन वास्तविक रूप से आपका लोकतंत्र और संविधान पर प्रतीकात्मक विश्वास केवल 15 अगस्त, 26/11 और 26 जनवरी को दिखता है। क्योंकि आप केवल उस दिन तिरंगे के साथ का तस्वीर अपलोड करके सबसे बड़ा देशभक्त होने का दावा करते हैं।

आप देश को भौगोलिक रूप से एकत्रित देखना चाहते हैं न कि मानवीय रूप से। आप अमर हुतात्माओं के सम्पूर्ण कालजयी विचारों को अमल नहीं करते हैं। आप उन महापुरुषों के केवल उन्हीं विचारों को स्वीकार करते हैं जिसके आधार पर आपकी विचारधारा श्रेष्ठ साबित हो सके, बाकि बचे-खुचे विचारों को संदेहास्पद बनाकर गर्त में डाल देते हैं। हर वैचारिक दल अपने कुतर्क ज्यादा और तर्क कम प्रयोग कर रहा है। आपके इन्हीं अवस्थाओं ने आज देश को गम्भीर वैचारिक युद्ध में धकेल दिया है। अब आप असमती नहीं जताते हैं बल्कि आप विरोध करते हैं। हमें पता नहीं चला कि हम असहमति जताते-जताते कब विरोध के लोकतंत्र में प्रवेश कर गए। आपके वैचारिक जगत में राजनैतिक संकीर्णता प्रवेश करने के कारण यह पहले स्तर का परिणाम आया है। मसलन आप याद रखें संवैधानिक होने का दावा करना और संविधान में निष्ठा रखने में व्यापक फर्क होता है।

हालांकि यह आपको ज्ञात नहीं हो पाएगा कि आप इस गंभीर विक्षिप्तता के शिकार हो चुके हैं, बल्कि आपको महसूस होता रहेगा कि आप अपने इस वैचारिक पटल से देश के लिए अत्यंत गम्भीर चिंतक हैं। लेकिन कोशिश करियेगा स्वतंत्र रूप से सोचने के लिए आपका गंभीरता और नेताओं का चुनावी वादा दोनों एक दूसरे के समानुपाती होगा, जिसके आसरे देश कई बरसों से झूठी श्रृंगार के साथ ठगा सा महसूस करते आया है।

personal thoughts, most dangerous thing, mind make up, patriotic, nationalism

लेखक:- प्रेरित कुमार,                                                                                                          एक स्वतंत्र विचारक पत्रकार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here