सितम्बर 23, 2021

Explainer: फार्मा कंपनी, ठाकरे की कार्रवाई और बीजेपी का कनेक्शन.. महाराष्ट्र की रेमडेसिविर पॉलिटिक्स

Remedesvir Politics In Maharashtra Latest News: महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सरकार ने केंद्रशासित प्रदेश दमन की एक रेमडेसिविर सप्लायर फार्मा कंपनी पर शिकंजा कसा है। मुंबई पुलिस ने फार्मा कंपनी के डायरेक्टर से रेमडेसिविर के स्टोरेज पर पूछताछ की है। इस पर महाराष्ट्र बीजेपी ने एतराज जताया है।

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच रेमडेसिविर की सप्लाई पर पॉलिटिक्स शुरू हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का आरोप है कि एक फार्मा कंपनी के मालिक को सिर्फ इसलिए हिरासत में ले लिया गया कि क्‍यों‍कि वह बीजेपी के अनुरोध पर महाराष्ट्र के लिए रेमडेसिविर की 60 हजार शीशियों की सप्लाई करने वाला था। बीजेपी नेता शनिवार आधी रात को थाने पहुंच गए और उद्धव सरकार की कार्रवाई को शर्मनाक बताया। दूसरी तरफ, मुंबई पुलिस का कहना है कि उसे रेमडेसिविर की जमाखोरी की जानकारी मिली थी। पूछताछ के बाद फार्मा कंपनी के मालिक को छोड़ दिया गया।

दरअसल दमन स्थित ब्रुक फार्मा प्राइवेट लिमिटेड रेमडेसिविर की एक्सपोर्टर है। मुंबई पुलिस ने रेमडेसिविर दवा के जरूरत से ज्यादा स्टोरेज को लेकर फार्मा कंपनी के डायरेक्टर से पूछताछ की और जरूरी दस्तावेज जमा करने के बाद ही उन्हें जाने दिया। मुंबई पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि उन्होंने कम से कम 60,000 शीशियां जमा कर रखी थीं। कोरोना वायरस के रोगियों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली इस दवा की कमी की वजह से राज्य और केंद्र सरकार ने उन्हें इस माल को घरेलू बाजार में बेचने की इजाजत दी थी। हालांकि मूल रूप से यह एक्पोर्ट के लिए थी। महाराष्ट्र में विपक्षी बीजेपी ने मुंबई पुलिस की ओर से फार्मा कंपनी के डायरेक्टर से पूछताछ किए जाने पर आपत्ति जताई है और कहा है कि राज्य की शिवसेना नीत सरकार महामारी के बीच राजनीति कर रही है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हमने चार दिन पहले ब्रुक फार्मा से रेमडेसिविर की सप्लाई करने का अनुरोध किया था लेकिन तब तक अनुमति नहीं मिल पाने की वजह से वे ऐसा नहीं कर सके। मैंने केंद्रीय (रसायन और उर्वरक राज्य) मंत्री मनसुख मंडाविया से बात की थी और हमें एफडीए (खाद्य और औषधि प्रशासन) से मंजूरी मिल गई थी।