Research: तनाव, अवसाद, चिंता से रहना है दूर , तो सोशल मीडिया साइट से एक सप्ताह की दूरी जरूरी

लंदन। ट्वीटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया (social media) साइट से कम से कम एक सप्ताह की दूरी तनाव, (stress) अवसाद, (depression) चिंता (anxiety) आदि को दूर करने में सहायक साबित होती है।

‘साइबरसाइकोलॉजी, बिहेवियर एंड सोशल नेटवर्किं ग’ जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, सोशल मीडिया से मात्र एक सप्ताह की दूरी स्वास्थ्य के लिये बेहतर साबित होती है और इससे तनाव तथा व्यग्रता के लक्षणों में कमी आती है।

बाथ यूनिवर्सिटी (University of Bath) के मुख्य शोधकर्ता जेफ लैम्बर्ट ने कहा,”हम जानते हैं कि सोशल मीडिया का बहुत इस्तमेाल होता है। इसी वजह से मानसिक स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव को लेकर भी चिंता बढ़ी है। इस अध्ययन के माध्यम से हमने यह जानने की कोशिश कि क्या मात्र एक सप्ताह तक सोशल मीडिया का इस्तेमाल न करने से मानसिक स्वास्थ्य बेहतर होता है।”

यह भी पढ़ें: 18 Saal Baad : अल्लू अर्जुन के करियर की वो फिल्म, जिसने उन्हें बनाया सुपरहिट
यह भी पढ़ें: Farewell Message: ‘लॉक अप’ को होस्टिंग करने को लेकर कंगना ने कही बड़ी बात

उन्होंने कहा, ”हमने शोध में पाया कि कई प्रतिभागियों ने मात्र एक सप्ताह तक सोशल मीडिया न इस्तेमाल करने पर अपने मूड को बेहतर पाया और उनमें व्यग्रता के लक्षण भी कम दिखे। इससे पता चलता है कि सोशल मीडिया से एक छोटा सा ब्रेक भी स्वास्थ्य के लिये सकारात्मक हो सकता है। ”

शोध के लिये 18 से 72 साल की आयु के 154 प्रतिभागियों पर शोध किया गया। इनमें से कुछ को कहा गया कि वे पहले की तरह सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते रहें जबकि कुछ को इसे पूरी तरह बंद करने के लिये कहा गया।

शोध की शुरूआत में ही सबके तनाव, चिंता और स्वास्थ्य का स्कोर ले लिया गया था। एक सप्ताह के बाद पाया गया कि जिन प्रतिभागियों ने सोशल मीडिया से दूरी बनाई थी, उनका मानसिक स्वास्थ्य दूसरे समूह के प्रतिभागियों से बेहतर था।

जिन प्रतिभागियों को सोशल मीडिया से दूर रहने के लिये कहा गया था, वे भी औसतन 21 मिनट सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे थे जबकि दूसरा समूह औसतन सात घंटे सोशल मीडिया पर था।