Agneepath Scheme Protest: केंद्र सरकार की नई सैन्य भर्ती नीति के खिलाफ शुक्रवार को सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शन कर रहे युवकों पर पुलिस की गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई और तीन अन्य घायल हो गए। प्रदर्शनकारियों द्वारा स्टेशन पर तोड़फोड़ करने और दो ट्रेनों में आग लगाने और स्टेशन में तोड़फोड़ करने के बाद पुलिस ने गोलियां चलाईं। घायलों को गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

स्थिति तनावपूर्ण बनी रही क्योंकि बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी स्टेशन पर और पटरियों पर बने रहे। प्रदर्शनकारी पुलिस पर पथराव कर रहे थे, जबकि बाद में रबर की गोलियों और आंसू गैस के गोले दागे गए।

रेलवे सुरक्षा बल, राजकीय रेलवे पुलिस और शहर की पुलिस स्थिति को नियंत्रण में करने की कोशिश कर रही है।

अतिरिक्त बलों को उस क्षेत्र में भेजा गया जो युद्ध क्षेत्र जैसा था। प्रशासन ने सभी ट्रेनें रद्द कर दी हैं। तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम (टीएसआरटीसी) की बसों को भी स्टेशन के बाहर निशाना बनाए जाने के साथ, निगम ने क्षेत्र में बस सेवाओं को निलंबित कर दिया।

ईस्ट कोस्ट एक्सप्रेस को आग के हवाले करते हुए सैकड़ों युवकों ने यहां के रेलवे स्टेशन पर हिंसा की। यात्री अपनी सुरक्षा के लिए दौड़े। कई बोगियां क्षतिग्रस्त हो गईं।

केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए प्रदर्शनकारियों ने स्टेशन पर एक अन्य ट्रेन के डिब्बे, स्टॉल, डिस्प्ले बोर्ड और अन्य रेलवे संपत्ति को भी आग के हवाले कर दिया। उन्होंने पार्सल का सामान भी पटरियों पर फेंक दिया और उनमें आग लगा दी।

‘जय जवान जय किसान’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे लगा रहे प्रदर्शनकारियों ने सरकार से हाल ही में घोषित योजना को रद्द करने और भर्ती की मौजूदा व्यवस्था को जारी रखने की मांग की।

युवा इस बात से नाराज थे कि वह पिछले 3-4 साल से जिस भर्ती परीक्षा की तैयारी कर रहे थे, जिसे सरकार ने रद्द कर दिया। उन्होंने कहा कि उनका विरोध तब तक जारी रहेगा जब तक केंद्र नई योजना को रद्द नहीं कर देती।

बड़े पैमाने पर हुई हिंसा के बाद तेलंगाना के सभी रेलवे स्टेशनों पर अलर्ट जारी कर दिया गया है। नामपल्ली, काचीगुडा और हैदराबाद के अन्य रेलवे स्टेशनों पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

एहतियात के तौर पर सुरक्षा बलों को काजीपेट और जंगांव रेलवे स्टेशनों पर भी भेजा गया।

Leave a comment

Your email address will not be published.