मुरथल गैंगरेप केस में सभी अधिकारियों के कॉल डिटेल पेश करने का दिया आदेश

चंडीगढ़: पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने सोमवार को मुरथल गैंगरेप मामले में हरियाणा सरकार को आदेश दिया है कि वह सोनीपत के सभी पुलिस अधिकारियों के मोबाइल की कॉल डिटेल अगली सुनवाई पर कोर्ट में पेश करें। साथ ही कोर्ट ने इस केस से जुड़ा पूरा रिकॉर्ड, केस डायरी व गवाहों की स्टेटमेंट भी अगली सुनवाई पर कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है।

punjab haryana high court

कोर्ट में हुई बहस में सीनियर एडवोकेट अनुपम गुप्ता ने सरकार पर केस की सही तरह से जांच ना करवाने के आरोप लगाया है और कहा है कि पुलिस इस केस की जांच सही तरीके से नहीं कर रही। अनुपम गुप्ता ने मुरथल गैंगरेप मामले में हो रही जांच पर असंतोष जताते हुए कहा कि ममता सिंह की अगुवाई करने वाली टीम, मामले की जांच सही तरीके से नहीं कर रही है। पूरे एक साल बीत जाने के बावजूद भी जांच से कुछ भी सामने नहीं आया है।

अनुपम गुप्ता ने कहा है की इससे बेहतर होता कि इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी जाती। एक साल का समय बीत गया है लेकिन जांच के नाम पर सिर्फ टाइम पास किया जा रहा है और केस के सारे जरुरी एवीडेंस समय बीतने के साथ कमजोर होते दिखाई दे रहे है। गुप्ता ने बोला की रोहतक में दर्ज 1212 मामलों में 921 में बिल्कुल अनट्रेस रिपोर्ट दी गई है और 184 मामलो में आरोपियों का कोई भी क्लू है ही नहीं साथ ही इसी तरहा 1105 मामलों को कचरे के ढ़ेर का रास्ता दिखा दिया है। अनुपम गुप्ता ने केस वापस लेने का फैसला लिया है, इसके बाद निचली कोर्ट के समक्ष यह मामला भेजे जाएंगे और उन पर दवाब बनाने का प्रयास करा जाऐगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here