पाक आर्मी चीफ: मदरसों में पढ़ने वाले बच्चे मौलवी बनेंगे या फिर आतंकवादी

पाकिस्तान के आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा का यह बयान आपको हैरान कर देगा. बाजवा ने देश में बढ़ते मदरसों और उनमें दी जानेवाली तालीम पर सवाल उठाते हुए कहा ‘ऐसी जगह पाकिस्तान के मदरसों में पढ़ने वाले बच्चे या तो मौलवी बनेंगे या आतंकवादी’ क्योंकि पाकिस्तान में इतनी मस्जिद नहीं हैं. मदरसे में पढ़ने वाले हर बच्चे को नौकरी मिल सके. आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा का यह बयान सभी को हैरान कर रहा है. ऐसा बहुत कम ही होता है कि पाकिस्तान जैसे कट्टरपंथी देश में आर्मी चीफ देश के मदरसों पर इस तरह के सवाल उठा रहे हैं. पाकिस्तान के मदरसों को लेकर पहले भी इस तरह का विवाद सामने आए हैं.

pakistani army chief said this shocking statement of pakistani madarse   pakistani army chief, shocking statement, pakistani madarse, pakistani government    pakistani army chief, shocking statement, pakistani madarse, pakistani government
pakistani army chief

बीते शुक्रवार को एक यूथ कांफ्रेंस में बाजवा ने कहा कि ‘मदरसों में बच्चों को सिर्फ मजहबी तालीम दी जाती है इसलिए यहां के बच्चे बाकी दुनिया से बहुत पीछे रह जाते हैं. मदरसों के पुराने कांसेप्ट को बदलना चाहिए, बच्चों को वर्ल्ड क्लास एजुकेशन दी जानी चाहिए’

मदरसों में मिली तालीम से बच्चों का कोई फायदा नहीं होता है क्योंकि मदरसों में यह नहीं बताया जाता कि दुनिया में क्या चल रहा है इसलिए यहां के बच्चे दुनिया के और बच्चों से पीछे रह जाते हैं. देवबंद मुस्लिमों द्वारा चलाए जा रहे मदरसों में लगभग 25 लाख बच्चे मजहबी तालीम पढ़ रहे हैं. इन बच्चों को वर्ल्ड क्लास एजुकेशन मिलनी चाहिए नहीं तो यह भी बाकी बच्चों की तरह पिछड़ जाएंगे. बाजवा ने अपने भाषण के अंत में कहा उन्हें डेमोक्रेसी पर भरोसा है. आर्मी देश की सिक्योरिटी और डेवलपमेंट मैं अपना रोल निभाती रहेगी. आर्मी देश की सेवा के लिए हमेशा तत्पर रहेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here