उत्तराखंड में हुए 2500 सरकारी स्कूल बंद

बीते कुछ सालों में उत्तराखंड में लगभग 2500 सरकारी स्कूल बंद हो चुके हैं। वही सरकारी स्कूलों का गिरता हुआ स्तर और इस वजह से कम हो रही छात्रों की संख्या बहुत बड़ी चिंताजनक बात है। शिक्षक संघ को इस बारे में सोचने की जरूरत है। बीते बुधवार को पथरीबाग में स्थित लक्ष्मण विद्यालय में आयोजित राज्य के शिक्षा संघ के द्विवार्षिक अधिवेशन के दौरान उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने यह सब बातें कहीं।

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने यह नसीहत देते हुए कहा कि क्या शिक्षक संघ सिर्फ अपनी मांगे उठाने के लिए ही हैं। राज्य में शिक्षा की गुणवत्ता को अच्छी करने की जिम्मेदारी इन कि नहीं है क्या ? वहीं सीएम रावत ने संघ की पत्रिका ‘शिक्षक दर्पण’ का भी विमोचन किया। सूत्रों से मिली खबर से पता चला है कि शिक्षक नेता इ रवैया से नाराज हैं। इसको लेकर तबादला नीति में संशोधन और ड्रेस कोड के खिलाफ जिस तरह शिक्षकों ने विरोध किया, इससे शिक्षा मंत्री को बहुत बड़ा झटका लगा है। अपने आदेशों का पालन ना होते हुए देख उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री इस अधिवेशन में नहीं आए।

शिक्षक संघ के अधिवेशन के दौरान उत्तराखंड के सीएम रावत ने सुझाव देते हुए कहा कि शिक्षा में सुधार के लिए थिंक टैंक का गठन होना चाहिए। जिसमें 20 सबसे अच्छे और योग्य शिक्षकों को शामिल किया जाएगा। यह सभी शिक्षक उत्तराखंड में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार,सरकारी स्कूलों की मजबूती स्कूलों के छात्र संख्या बढ़ाने पर सुझाव दे सकें।

इसी दौरान माध्यमिक शिक्षा निदेशक आज की खबर एसजीआरआर विवि के कुलपति डॉ पीतांबर प्रसाद ध्यानी, राज्य के शिक्षक संघ के प्रांतीय अध्यक्ष राम सिंह चौहान बाकी और शिक्षक भी शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here