कैप्टन ने दिया पद्मावती पर बड़ा बयान

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती का विरोध खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। पहले जहां राजपूत समाज इसका विरोध कर रहा था। उसके बाद कई राज्यों की सरकारों ने इस फिल्म को दिखाने से अपने हाथ खड़े कर दिए है। अब पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बयान देते हुए कहा है कि इतिहास से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने भी सभी के विरोध का समर्थन किया है। इस फिल्म का हर जगह विरोध हो रहा है। इससे पहले भी यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने फिल्म को दिखाए जाने पर सूबे में कानून व्यवस्था बिगड़ने की आशंका जताई थी।

captan amrinder singh

इसी बीच करणी सेना के कुछ लोगों ने दीपिका की नाक काटने पर इनाम रखा है। तो वहीं कुछ लोगों ने भंसाली का सर काट कर लाने वाले को 10 करोड़ देने की बात कही है। इसी बीच एडवोकेट एम एल शर्मा ने एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में डाली है। उस याचिका में फिल्म से विवादित दृश्य हटाने की मांग रखी है। इसके साथ-साथ फिल्म के निर्माता संजय लीला भंसाली पर FIR दर्ज कर सीबीआई जांच की मांग की है। रविवार शाम फिल्म की निर्माता कंपनी ने यह फैसला लिया था कि वह 1 दिसंबर 2017 को यह पिक्चर रिलीज नहीं करेंगे इसका मुख्य कारण माने तो देश में हो रहा पद्मावती का चौतरफा विरोध है। अब यह पिक्चर सिनेमाघरों में कब लौटेगी इसकी कोई तारीख अभी तय नहीं हुई है। पद्मावती फिल्म को लेकर राजपूत समुदाय ने राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर भी दबाव बनाया था।

जिसका असर यह हुआ की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को अपनी खामोशी तोड़ते हुए केंद्र सरकार को चिट्ठी लिखनी पड़ी मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को चिट्ठी लिखकर यह आग्रह किया कि यह फिल्म रिलीज तब तक ना हो जब तक इसमें विवादित दृश्य हटाए ना जाए। ताकि किसी भी समुदाय को ठेस ना पहुंचे। वही हिंदुस्तान का दिल कहे जाने वाले मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी यह ऐलान किया कि मध्य प्रदेश में भी यह फिल्म ना दिखाई जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here