पांच मंजिला इमारत में लगी आग, इमारत के ढहने से 12 लोगों की हुई मौत

पंजाब के लुधियाना में बीते सोमवार की सुबह एक भयानक हादसा देखने को मिला। सोमवार को लगभग 7:30 बजे प्लास्टिक का सामान बनाने वाली में अचानक से आग लग गई देखते ही देखते आगे इतनी बढ़ गई कि पूरी इमारत आग का गोला नजर आ रही थी। जिसके बाद इमारत बर्फ की तरह ढ़ह गई। इमारत के ढ़हने के बाद अभी तक 12 लोगों के शवों को बाहर निकाल निकाला जा चुका है और वही कई लोगों के मलबे में दबे होने की खबर है। बचाव कार्य जारी है और घायलों को नजदीकी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

पूरी घटना पंजाब के लुधियाना की है जहां इंडस्ट्रियल एरिया में सोफिया चौक के नजदीक एक इमारत में प्लास्टिक का सामान बनाया जाता था। जिस फैक्ट्री में अचानक एक धमाका हुआ और जिसके बाद पूरी 5 मंजिला इमारत बर्फ की तरह जमीन पर आ गई। इमारत में आग लगते ही पूरे इलाके में हाहाकार मच गया। जिला प्रशासन को इमारत में आग लगने और ढ़ह जाने की खबर मिली, जिसके बाद नेशनल डिजास्टर रेस्क्यू फोर्स (एनडीआरएफ) और स्टेट डिजास्टर रेस्क्यू फोर्स (एसडीआरएफ) तथा सेना ने मौके पर पहुंचकर मोर्चा संभाला। वही इमारत में से जहरीले धुएं के निकलने की वजह से बचाव कार्य में बहुत मुश्किल आ रही थी। मृत लोगों की पहचान की गई जिसमें सीनियर फायर अफसर सैमुअल गिल फायर बिग्रेड के कर्मचारी पूर्ण सिंह और पंजाब टैक्सी यूनियन के प्रधान इंद्रपाल सिंह के तौर पर हुई है। तों वही इमारत के मलबे में दबे मिले दलित नेता लक्ष्मण द्रविड़ नगर निगम के स्टेशनरी विभाग में चीफ सेनेटरी अप्सरा साथ ही साथ वह भारतीय वाल्मीकि धर्म समाज के वरिष्ठ नेता भी थे।

फैक्ट्री में धमाका तब हुआ जब फैक्ट्री के संचालक और कुछ अन्य लोग फैक्टरी के अंदर मुआयना करने गए थे, तभी एक जोरदार धमाका हुआ और पूरी इमारत ढह गई। जांच के अनुसार प्लास्टिक एसोसिएशन ने फैक्ट्री के मालिक पर लापरवाही का आरोप लगाया है, तो वही पंजाब प्लास्टिक मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के प्रधान जी एस बतरा ने आरोप लगाते हुए कहा है कि प्रशासन की लापरवाही के कारण ही इतना बड़ा धमाका हुआ है। प्रशासन ने वक्त रहते ही बचाव कार्य नहीं शुरू किया था इसीलिए मलबे के अंदर बहुत से लोग दब गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here