मुंबई। राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेत्री रवीना टंडन का कहना है कि उन्हें पर्दे पर मजबूत महिलाओं का किरदार निभाने में ज्यादा दिलचस्पी है और हाल के दिनों में उन्होंने टाइपकास्ट होने से बचने के लिए कई पटकथाओं को खारिज कर दिया है। 90 के दशक में सफलता के शिखर पर रहने वाली अभिनेत्री ने वेब सीरीज ‘अरण्यक’ के साथ ओटीटी की शुरूआत की। कस्तूरी डोगरा के रूप में एक शांत भूमिका के साथ उनके प्रदर्शन को समीक्षकों और दर्शकों ने समान रूप से सराहा।

वेब सीरीज की सफलता के साथ-साथ व्यावसायिक रूप से सफल फिल्म ‘केजीएफ: अध्याय 2’ के बाद वह अपने करियर को अगले स्तर पर कैसे ले जाना चाहती है, इस बारे में बात करते हुए, रवीना ने अपनी रणनीति का खुलासा किया।

रवीना ने कहा, “मेरा डिजिटल डेब्यू एक रणनीतिक कदम था। मजबूत महिला पात्रों वाली कहानियां मेरी खूबी हैं और फिल्में जो सामग्री से प्रेरित हैं, मुझे सबसे ज्यादा आकर्षित करती हैं। मुझे लगभग 20 स्क्रिप्ट्स को अस्वीकार करना पड़ा, क्योंकि मैं टाइपकास्ट नहीं होना चाहती थी। मैं चाहती हूं कि दर्शक मुझे मेरी बहुमुखी प्रतिभा के लिए याद रखें। ‘हां’ कहना आसान है लेकिन आपको ‘नहीं’ कहने के लिए बोल्ड होना चाहिए।”

वह अपनी आगामी फिल्म ‘घुड़चड़ी’ के लिए संजय दत्त के साथ फिर से जुड़ेंगी। एक्ट्रेस जल्द ही अपने नए प्रोजेक्ट की भी घोषणा करेंगी।

 

Ankit Sharma

मैं एक स्वतंत्र हिंदी पत्रकार, लेखक, पीआर सलाहकार और सोशल मीडिया मैनेजर के रूप...

Leave a comment

Your email address will not be published.