वसंत पंचमी के दिन ऐसे करें मां सरस्वती की उपासना

माघ शुक्ल की पंचमी तिथि को मां सरस्वती की पूजा की जाती है, इस दिन विद्या और बुद्धि की प्राप्ति के लिए मां सरस्वती की उपासना की जाती है. मां सरस्वती की उपासना के पर्व को ही वसंत पंचमी कहते हैं. इस दिन विवाह निर्माण और शुभ कार्य किए जाते हैं. इस संधि काल में विज्ञान और ज्ञान दोनों का वरदान प्राप्त किया जा सकता है. साल 2018 में 22 जनवरी को बसंत पंचमी का त्यौहार मनाया जाएगा.

वसंत पंचमी के शुभ पर्व पर संगीत और अध्यात्म का आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है. अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में विद्या बुद्धि का योग नहीं है या फिर शिक्षा की अड़चन का योग है तो इस शुभ पर्व पर विशेष पूजा करके इस संकट को दूर किया जा सकता है. जो लोग मूक अथवा बधिर हैं. उन लोगों के लिए भी आज मां शारदा की उपासना करना लाभकारी होगा.

हम आपको बताएंगे कि मां सरस्वती की उपासना किस प्रकार की जाती है. मां सरस्वती की उपासना के दौरान आपको कुछ चिन्हित बातों का ख्याल रखना होगा.
>इस शुभ पर्व के दिन आप पीले या सफेद वस्त्र धारण करें. यह आपके लिए लाभकारी होगा.
>इस दिन पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके पूजा करें.
>मां सरस्वती की पूजा इस दिन सूर्य उदय के ढाई घंटे या फिर सूर्यास्त के बाद ढाई घंटे में करें.
>इस दिन मां सरस्वती की पूजा करने के दौरान श्वेत चंदन और पीले, सफेद पोस्ट अवश्य अर्पित करें.
>मां सरस्वती के प्रसाद में मिश्री, दही और लावा समर्पित करें.
>मां सरस्वती के बीज मंत्र का लगातार जाप करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here