2018 का चंद्रग्रहण: जानें समय का प्रभाव

चंद्रग्रहण को बहुत ही खास माना जाता है क्योंकि यह कुछ मनुष्यों के लिए बहुत ही अच्छा होता है और कुछ के लिए बहुत ही घातक साबित होता है. साल 2018 में 31 जनवरी बुधवार को माघ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा पर खग्रास चन्द्रग्रहण लगेगा. ऐसा बताया जा रहा है की यह ग्रहण सम्पूर्ण भारत में दृश्य होगा. भारत सहित यह चन्द्रग्रहण रुस, एशिया, मंगोलिया, जापान, आस्ट्रेलिया समेत कई देशों में चंद्रोदय के समय प्रारंभ हो जाएगा. तो वहीं कनाडा , अमेरिका , पनामा के कुछ भाग में चंद्रग्रहण चंद्रास्त के समय ग्रहण का मोक्ष दृश्टिगोचर हो जाएगा.

पंडित प्रदीप शर्मा ने बताया है की यह ग्रहण पुष्य व आश्र्लेषा नक्षत्र और कर्क राशि पर पड़ने वाला है. जन्म के समय से व पुकारने के नाम से जिन लोगों का पुष्य व आश्र्लेषा नक्षत्र एंव कर्क राशि हो उनको और गर्भवती महिलाओं को इस ग्रहण के समय घर से बाहर नहीं निकलाना चाहिए. यह चन्द्रग्रहण इन सभी लोगों के लिए घातक साबित हो सकता है. इस चंद्रग्रहण का सूतक 31 जनवरी 2018 बुधवार को सुबह 08 बज कर 19 मिनट से लग जाएगा.

आपको बता दें की बच्चे-बूढ़े और रोगी लोग ग्रहण के प्रारंभ होने वाली अवधि तक पथ्याहार ले सकते हैं. चंद्र ग्रहण के सूतक काल में शयन , भोजन, हास्य विनोद, मूर्ति स्पर्श नहीं करना चाहिए. ग्रहण के समय स्नान करते वक्त कोई भी मंत्र आदि नहीं बोलना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here