राष्ट्रपति ने हिलाई ‘आप’ कि दुनिया, रद्द होंगी 20 विधायकों की सदस्यता

दिल्ली की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी को एक बार फिर से बहुत बड़ा झटका लगा है. ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मामले में आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों पर लटकी तलवार अब उनपर हानिकारक साबित हो गई है और उनकी सदस्यता को रद्द कर दिया गया है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से की गई चुनाव आयोग की सिफारिश को उन्होंने मंजूरी दे दी है.

president approves recommendation of disqualification of 20 aap mlas by election commission president, approves recommendation, disqualification, 20 aap mla, election commission, delhi, aap, kejriwal
approves recommendation of disqualification of 20 aap mla

शुक्रवार को चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति को यह सिफारिश की थी कि आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य घोषित किया जाए लेकिन रविवार को यह खबर सामने आई कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने चुनाव आयोग की बात से सहमति जताते हुए 20 विधायकों की सदस्यता को रद्द कर दिया है. चुनाव आयोग का यह मानना था कि आम आदमी पार्टी के विधायक ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मामले में आते हैं. इस मामले के सामने आने के बाद आम आदमी पार्टी की तरफ से चुनाव आयोग की प्रक्रिया पर लगातार सवाल उठाए जा रहे थे.

पार्टी प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज की तरफ से यह कहा गया था कि कोई भी विधायक लाभ के पद पर नहीं आता है और ना ही किसी के पास बंगला या गाड़ी है. सौरभ भारद्वाज की तरफ से यह भी कहा गया है कि किसी के भी पास इस बात का सबूत नहीं है कि कोई बैंक ट्रांजैक्शन हुई है या फिर पैसे का हेरफेर किया गया है, तो कोई लाभ के पद पर कैसे हो सकता है. इसके बाद BJP और चुनाव आयोग की तरफ से अपनी प्रतिक्रिया भी जाहिर की गई थी. इस मामले में बीजेपी के पूर्व दिल्ली अध्यक्ष सतीश उपाध्याय की तरफ से यह कहा गया था कि आम आदमी पार्टी भ्रष्टाचार करती है और इस बार पार्टी का भ्रष्टाचार बेनकाब हो गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here