सार्वजनिक स्थानों को दिव्यांगो के प्रवेश योग्य बनाने हेतु कार्यशाला का आयोजन

उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा सार्वजनिक स्थानों को दिव्यांगो के लिए प्रवेश योग्य बनाने हेतु कार्यशाला का आयोजन डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिविक सेंटर में किया गया. इस कार्यशाला में दिव्यांगो के अनुकुल बुनयादी ढांचे के विकास संबंधी वैधानिक प्रावधानों के संबंध में जानकारी दी गई. दिव्यांगों के सुविधाओं को ध्यान में रखकर निगम के अधिकार क्षेत्र में आने वाले सार्वजनिक स्थानों में बदलाव करने संबंधी चर्चा की गई.

कार्यशाला की अध्यक्षता उत्तरी दिल्ली नगर निगम के आयुक्त मधुप व्यास ने की. कार्यशाला का आयोजन विकलांग व्यक्तियों के लिए आयुक्त कार्याशाला के आयुक्त टीण्डी धारीयाल व एक्सेस्बिलीटी विशेषज्ञ सुभाष चंद्र वशिष्ठ के मार्गदर्शन में किया गया. कार्यशाला में उत्तरी दिल्ली नगर निगम के अतिरिक्त आयुक्त आरण्एस मीणाए सभी क्षेत्रीय उपायुक्त व वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे.

इस अवसर पर निगमायुक्त मधुप व्यास ने कहा कि नगरीय निकाय का भाग होने के नाते उत्तरी दिल्ली नगर निगम के अधिकार क्षेत्र में आने वाले सभी सार्वजनिक स्थानों को दिव्यांगो के लिए सुगम्य बनाना हमारा दायित्व है और हम इसके लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि दिव्यांगों के आवश्यकतानुसार सभी 26 बाजारों सामुदायिक शौचालयों उद्यानों व सभी निगम कार्यालयों में दिव्यांगों की सुविधा हेतु बदलाव किया जाएगा. व्यास ने बताया कि निगम मुख्यालय सिविक सेंटर में भी उन स्थानों को चिन्हींत किया गया है जहां दिव्यांगजनों को आवाजाही में परेशानी का समाना करना पड़ता है. इसमें भी जल्द से जल्द सुधार किया जाएगा.

होली स्पेशल: देखें विडियों

माननीय उच्च न्यायालय ने 13 फरवरी 2018 को दिये गए आदेश में निर्देश दिया है कि दिल्ली के तीनों नगर निगम और अन्य निकाय दिव्यांगों के सार्वजनिक स्थानों में आवागमन को सुगम बनाने के लिए युद्वस्तर पर कार्य करें साथ ही अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया जाए.

अन्य बड़ी खबरें

अपने पीछे इतनी दौलत छोड़ गई श्रीदेवी

जानें क्यों दी सचिन ने अर्जुन को T-20 लीग से नाम वापस लेने की सलाह

वीडियो से हो रहा दावा, श्रीदेवी का हुआ पुनर्जन्म

आईपीएल के 11वें सीजन में किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान होंगे आर अश्विन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here