उत्तरी दिल्ली नगर निगम के प्रधानाचार्यों की बैठक का आयोजन

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के मुख्यालय डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिविक सेंटर में आज सभी क्षेत्रों के प्रधानाचार्य की बैठक संपन्न हुई. बैठक की अध्यक्षता निदेशक (शिक्षा ) एच के हेम ने की है. सभा के आरंभ में उप निदेशक शिक्षा सुजाता मलिक ने विद्यालयों के प्राचार्यों से वरिष्ठता सूची तैयार करने, मरम्मत एवं रखरखाव के फंड के सदुपयोग , विद्यालय स्वक्षता और मिड डे मील जैसे विषयों पर प्रकाश डाला.

Meeting of the Principals of North Delhi Municipal Corporation Meeting, Principals of North, Delhi Municipal Corporation, new delhi, student, delhi school
meeting of school teacher

उप निदेशक शिक्षा निर्मला ने बच्चों के पढ़ने की क्षमता को सुधारने के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि एक समयबद्द सारणी के माध्यम से कमजोर बच्चों के लिए विशेष प्रयास करने की आवश्यकता है. उन्होंने प्राचार्यों को निष्ठा से काम करने और अपने शिक्षकों की प्रतिभा का बखूबी सदुपयोग करने की बात कही.

वीडियो के जरिए देखे किस तरह एक झटके में मच गया राजनीतिक घमासान 

सभा के अंतिम सत्र में निदेशक शिक्षा श्री एच के हेम ने सभी प्राचार्यों को शिक्षा विभाग की नीति को सुचारु रुप से क्रियान्वित करने की आवश्यकता पर बल दिया. उन्होंने दिल्ली में शिक्षा स्तर को सौ प्रतिशत तक करने की योजना पर विस्तार पूर्वक चर्चा की इसके साथ ही पढ़ाई में कमजोर बच्चों के लिए विशेष प्रयास करने की आवश्यकता महसूस करते हुए देश के विभिन्न राज्यों में कार्यरत एनजीओ ‘प्रथम ‘ की कार्यशैली से अवगत कराया उन्होंने कहा कि बच्चों में सीखने की प्रवृत्ति को बढ़ावा देने का प्रयास किया जाना अपेक्षित है. बैठक के दौरान ग्रीष्मकालीन अवकाश के समय पढ़ाई में कमजोर बच्चों के लिए विशेष कैंप लगाने की योजना पर भी चर्चा की गई , NAS के परिणाम के मद्देनजर शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाए जाने की आवश्यकता पर बैठक के दौरान चर्चा की गई.

सितारगंज में एसएसपी ने किया सलाना औचक निरीक्षण

139 करोड़ के श्रम घोटाले की हो सीबीआई जांच- तिलकराज कटारिया

मसूरी का नवनिर्मित घंटाघर लोकार्पण से पहले विवादों में

अमिताभ का बढ़ा कांग्रेस से प्यार, क्या है उनकी मंशा

एसडीएम ने किया औचक निरीक्षण, दिए जरूरी दिशा निर्देश

बदरूद्दीन अजमल ने कहा- BJP से AIUDF आगे बढ़ रही है तो बिपिन रावत को चिंता क्यों ?