वीडियो के कारण ‘आप’ का उठा कुमार से ‘विश्वास’, लेकिन नहीं दबेगी आवाज

आम आदमी पार्टी में इन दिनों घमासान मचा हुआ हैं. राज्यसभा में उम्मीदवारों के नाम की घोषणा होने के बाद पार्टी के वरिष्ठ और अच्छी छवि रखने वाले नेता कुमार विश्वास अब बागी सुर अपना चुके हैं. जिसके बाद उन्होंने एक बार फिर से अपना पुराना वीडियो ट्विटर पर शेयर किया है और अपने तेवरों से पार्टी आलाकमान को देखा चुके हैं. कुमार विश्वास ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए कहा है कि इस वीडियो की आवाज थी है और हमेशा रहेगी भले ही उन्हें इसकी कीमत चुकानी पड़ जाए. ट्विटर पर उन्होंने लिखा है कि वीडियो में कही गई बातों पर वह कोई समझौता नहीं करेंगे भले ही इसके लिए आने वाले वक्त में उनको कोई बड़ी कीमत चुकानी पड़ जाए क्योंकि यह मामला सिर्फ उनका ही नहीं है बल्कि पूरे देश का हैं.

कुमार विश्वास ने जो वीडियो ट्विटर पर शेयर की है, वह 14 अप्रैल 2017 की है. इस वीडियो में है वह कश्मीर में परिस्थितियों की बात कर रहे थे लेकिन बातों ही बातों में उन्होंने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर आम आदमी पार्टी के मुखिया पर निशाना साधा. इस वीडियो में कुमार विश्वास ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगाते हुए कहा है कि अगर आप ही की पार्टी के नेता भ्रष्टाचार करें और आप चुप्पी साध कर उन्हें बचाने की कोशिश करें तो यह गलत बात है और इसके बाद लोग आपसे सवाल करेंगे. कुमार विश्वास का कहना था कि सत्ता आनी जानी है लेकिन देश सर्वोपरि हैं.

बीते बुधवार को पार्टी की तरफ से एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रखी गई, जिसमे दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने राज्यसभा जानें वालो नामों की घोषणा की. उप-मुख्यमंत्री ने बताया कि तीन राज्यसभा सीटों के लिए संजय सिंह, सुशील गुप्ता और नारायण दास गुप्ता का नाम तय किया गया है. उन्होंने बताया की पार्टी 18 नामों पर चर्चा कर रही थी जिस पर 11 नामों पर गंभीरता से बात की गई. लेकिन संजय सिंह के नाम को छोड़कर अन्य किसके नाम पर सहमति नहीं बन पाई थी. इस बैठक की सबसे दिलचस्प बात यह थी कि इसमें ना ही संजय सिंह को बुलाया गया और ना ही कुमार विश्वास को आमंत्रित किया गया. बता दें कुमार विश्वास ने राज्यसभा जाने के लिए अपनी दावेदारी ठोकी थी.

जानिए कौन है तीनों सदस्य.

सुशील गुप्ता-सुशील गुप्ता दिल्ली के एक बड़े कारोबारी हैं. पहले वे कांग्रेस में थे लेकिन कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद वह आप में शामिल हो गए. सूत्रों के अनुसार सुशील गुप्ता के दिल्ली और हरियाणा में करीब 25 से 30 स्कूल-कॉलेज और अस्पताल हैं.

नारायण दास गुप्ता-नारायण दास गुप्ता पेशे से एक CA हैं और वह इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया के प्रेसिडेंट भी रह चुके हैं. जानकारी के मुताबिक नारायण दास गुप्ता बीते करीब डेढ़ साल से आम आदमी पार्टी का आयकर विभाग में केस संभाल रहे हैं.

संजय सिंह-संजय सिंह पार्टी के पुराने नेताओं में से एक है. आप पार्टी का सदस्य बनने से पहले वह एक सामाजिक कार्यकर्ता थे. संजय सिंह ने भ्रष्टाचार के खिलाफ हुए आंदोलन का नेतृत्व भी किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here