जानें क्यों राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हुए भावुक

गणतंत्र दिवस के मौके पर एयर फोर्स के गरुण कमांडो जेपी निराला को मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित करते वक्त राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की आंखें भर आई. इस सम्मान को लेने के लिए शहिद जवान की मां और धर्म पत्नी पहुंचे थे. जिस वक्त शहिद जेपी निराला का नाम पुकारा गया मंच पर बैठे राष्ट्रपति कोविंद की आंखें आंसू से भर गई. राष्ट्रपति कोविंद के भावुक होने की सभी तस्वीरें कैमरे में कैद हो गई है. इन कैद हुई तस्वीरों में राष्ट्रपति को रुमाल से अपनी आंखें निकले आंसू को पोंछते नजर आ रहे हैं. इस लम्हें में सिर्फ राष्ट्रपति कोविंद ही भावुक नहीं बल्कि शहिद जवान जेपी निराला की मां और पत्नी भी सम्मान पाकर अपने शहिद हुए पति की शहादत गाथा सुनकर भावुक हो गईं.

भारतीय वायुसेना के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है की किसी गरुड़ कमांडो को मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया गया. बीते तीन महीने पहले ही गरुड़ कमांडो जेपी निराला आंतरोधी अभियान के तहत स्पेशल ड्यूटी पर कश्मीर के हाजिन में सेना के साथ ही तैनात थे. इसी ऑपरेशन के दौरान सेना ने कारवाई करते हुए आतंकी मसूद अजहर के भतीजे तल्हा रशीद को मारा था.

शहीद हुए जवान जेपी निराला बिहार के रोहतास के रहने वाले थे. निराला सन् 2005 में वायु सेना में शामिल हुए थे. निराला अपने मां-पिता के इकलौते पुत्र थे. निराला के परिवार में माता-पिता के अलावा उनकी पत्नी सुषमा और 4 साल की बेटी है. निराला के पिता ने कहा की मुझे अपने बेटे की शहादत पर गर्व है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here