कवि सम्मेलन का नहीं दिया न्योता, कुमार से उठा केजरीवाल का ‘विश्वास’?

राज्यसभा भेजने का विवाद अभी थमा भी नहीं था कि केजरीवाल सरकार ने एक और विवाद खड़ा कर दिया. 10 जनवरी को होने वाले एक कवि सम्मेलन में केजरीवाल सरकार ने कुमार विश्वास को न्यौता तक नहीं दिया. इससे पहले दिल्ली सरकार द्वारा आयोजित कवि सम्मेलनों में विश्वास नजर आते रहे हैं.

दिल्ली के लाल किले में होने वाले कवि सम्मेलन पर कुमार विश्वास ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मौजूदा स्थिति ऐसी नहीं है कि सरकार उन्हें श्रोता के रूप में भी सहन कर सकती. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि लाल किले में होने वाले इस कार्यक्रम में उन को बुलाया या ना बुलाना कोई ज्यादा महत्वपूर्ण विषय नहीं है वह लोगों के दिल में बसे लाल किले में बसते हैं. कुमार ने कहा कि हिंदी अकादमी के अलावा भी उर्दू अकादमी,संस्कृत अकादमी, पंजाबी अकादमी, भोजपुरी-मैथिली अकादमी, इत्यादि ने उन्हें आमंत्रित किया है. विश्वास के इस करारे हमले के बाद आम आदमी पार्टी में आप सन्नाटा पसरा है. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता भी इस मामले पर कुछ नहीं कह रहे हैं.

इससे पहले आपको बता दें राज्यसभा जाने वाले सदस्यों में कुमार विश्वास अपनी दावेदारी ठोक रहे थे. लेकिन उनको दरकिनार करते हुए आम आदमी पार्टी ने संजय सिंह, एन डी गुप्ता, सुशील गुप्ता को राज्यसभा भेजने के लिए चुना था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here