मुख्य सचिव की पिटाई का मामला, मंगलवार तक के लिए कोर्ट का फैसला सुरक्षित

मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मारपीट मामला लगातार बढ़ता जा रहा है. इस मामले में सीएम अरविंद केजरीवाल की मुश्किलें बढ़ती हुई दिखाई दे रही है. अंशु प्रकाश मामले में लगातार सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है, जिसके बाद मुख्यमंत्री आवास में अंशु प्रकाश के साथ छेड़छाड़ की बात सामने आ रही है.

इस मामले में एडिशनल सीपी हरेंद्र सिंह ने सोमवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट में कहा कि आम आदमी पार्टी के विधायकों और मुख्य सचिव प्रकाश के बीच मीटिंग कैंप ऑफिस में नहीं बल्कि सीएम केजरीवाल के ड्राइंग रूम में आयोजित की गई थी. इस मामले में कोर्ट में पुलिस ने कहा है कि सीसीटीवी का समय अलग-अलग है. ऐसे में यह आशंका जताई जा रही है, कि अंशु प्रकाश के साथ टेंपरिंग भी की गई है. इस मामले में कोर्ट ने अपना फैसला मंगलवार तक के लिए सुरक्षित रख लिया है. लेकिन अभी तक हुई जांच के बाद पता चला है कि यह पूर्व नियोजित था मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सरकारी आवास के कमरों में जांच के बाद यह पता चला है कि 14 सीसीटीवी कैमरे को समय से 40 मिनट 42 सेकेंड पीछे कर दिया गया था. इसलिए पुलिस शक जता रही है कि सीएम आवास में पहले से ही योजना बनाई गई थी और कैमरे के साथ छेड़छाड़ करने के बाद आधी रात को मुख्य सचिव को बुलाकर मारपीट की गई जिसके बाद पुलिस ने सीएम आवास में लगे डीवीआर को जप्त कर लिया है.

अन्य बड़ी खबरें-

श्रीदेवी के पार्थिव शरीर को लाने में हो रही देरी, क्या है वजह

गवर्नर पर लगा रेप का आरोप ! गृह मंत्रालय ने दिए जांच के आदेश

अमित शाह: हर मोर्चे पर फेल है कांग्रेस, कर्नाटक में भी खिलेगा कमल

श्रीदेवी: मौत से पहले का वीडियो आया सामने

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here