MP News: नाबालिग बच्ची से छेड़छाड़ मामले में कार्रवाई न होने पर पिता ने दे दी जान, परिवार में पसरा मातम

इंदौर: मध्य प्रदेश के इंदौर जिले के सनावद में बेटी को अगवा करने की रिपोर्ट लिखाने गया पिता पुख्ता कार्रवाई नहीं होने से इस कदर दुखी हुआ कि उसने घर जाकर फांसी लगा ली इससे उसकी मौत हो गई। आक्रोशित परिजन देररात फिर से पुलिस थाने पहुंचे। पुलिस ने दुष्कर्म जैसे अपराध के आरोप में युवक के खिलाफ धारा 151 की खानापूर्ति कार्रवाई की थी।

जानकारी के अनुसार मंडलोई मोहल्ले में मानसिक रूप से अस्वस्थ लड़की को बुरी नियत से अपराधी शिव घर पर बुला रहा था जहां नाबालिग के परिजन ने देखकर युवक से घर बुलाने के सबंध में पूछा तो अपराधी ने कहा कि उसकी मां बुला रही हैं। बड़ी बहन को साथ भेजने पर देखा कि आरोपी युवक के घर में ताला लगा है जिसके बाद उसकी मां को फोन लगाया तो मालूम हुआ कि वह तीन दिन से इंदौर में हैं। नाबालिग ने बताया कि इससे पहले भी युवक उसे दो-तीन बार घर ले गया। इस पर परिजन को शक हुआ कि उनकी बेटी के साथ कुछ गलत किया होगा। परिजन पुलिस थाने पहुंचे और कड़ी कार्रवाई की मांग की। थाने में युवक के खिलाफ महज खानापूर्ति वाली कार्रवाई कर उसे छोड़ दिया।

आरोपी थाने से निकलकर फिर से लड़की के घर के सामने पहुंचा और गालीगलौज करने लगा। इसी से लड़की के पिता आहत हो गए। घर पहुंचे परिजन जब एक कमरे में बैठकर आपस में बात कर रहे थे। इसी दौरान पिता जितेंद्र बनवाड़े (42) घर की ऊपरी मंजिल पर गये और फांसी लगा ली। पिता जितेंद्र की आत्महत्या की खबर के बाद पुलिस ने युवक को फिर से पकड़ लिया। वहीं इस मामले में मृतक की शवयात्रा के समय उसके परिवार वालों ने बयान देकर इस पुलिस की कार्यशैली पर आरोप लगाया है। मृतक के जीजा मनोहर मुंशी ने बताया कि मुझे गुरुवार दोपहर तीन बजे फोन पर बताया था कि घर के पास ही रहने वाले शिव पिता विजय सिंह ने जितेंद्र की बेटी को झांसा देकर अपने घर ले गया और गंदी हरकत की है।

मैंने उन्हें तत्काल थाने में रिपोर्ट लिखाने कहा था। वे थाने आये मगर उन्हें वापस भेज दिया। मैंने ऑनलाइन भोपाल शिकायत की तो भोपाल से कहा कि उन्हें दोबारा थाने भेजें। ये लोग दोबारा थाने गए फिर भी इनकी रिपोर्ट एसआई रजनी समादिया ने नहीं लिखी। जितेंद्र की आत्महत्या की खबर के बाद पुलिस जागी और आरोपी युवक को रात में ही उठा लिया। मृतक की पत्नी कविता से आवेदन लेकर शुक्रवार सुबह नौ बजे पॉक्सो एक्ट में प्रकरण दर्ज किया जिसमें मृतक जितेंद्र ने फांसी लगाई इसका जिक्र तक नहीं है।

विनोद दीक्षित, एसडीओपी बड़वाह ने बताया कि पुलिस द्वारा इस मामले में त्वरित कार्रवाई की गई थी। लेकिन उसके बाद भी अगर परिवार वाले किसी पुलिसकर्मी के खिलाफ शिकायती आवेदन देते हैं तो उसकी जांच कराई जाएगी।