भगोड़ा माल्या केस: सुप्रीम कोर्ट ने विदेश मंत्रालय से मांगा जवाब

धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के कारण शराब शराब व्यवसाई विजय माल्या आए दिन सुर्खियों में बने रहते हैं. विजय माल्या के प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई सोमवार को हुई. सुनवाई के दौरान विजय माल्या के वकीलों ने भारतीय न्याय व्यवस्था (जस्टिस व्यवस्था) पर सवाल खड़े किए हैं. 61 वर्ष के हो चुके विजय माल्या सुनवाई के चौथे दिन लंदन के वेस्टमिनिस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में मौजूद हुए.

ayodhya case hearing on 8th feb 2018 kapil sibble said document are incompleted ramlla sunni wqk board supreme court hearing kapil sibble ram mandir babri masjid
supreme court

विजय माल्या के प्रत्यर्पण मामले में सुप्रीम कोर्ट ने विदेश मंत्रालय से 15 दिसंबर तक जवाब मांगा है. सुप्रीम कोर्ट ने पूछा है कि कोर्ट के आदेश देने के बावजूद भी केंद्र प्रत्यार्पण मैं इतनी देरी क्यों कर रही है. सुप्रीम कोर्ट ने इशारा करते हुए कहा कि अगर मंत्रालय उनका आदेश नहीं मानेगा तो कोर्ट मंत्रालय को समन भी कर सकता है.

भारतीय बैंकों ने भी भगोड़े माल्या के खिलाफ याचिका दायर की है. भारतीय बैंकों ने माल्या की सारी संपत्ति जप्त करने की मांग की है. याचिका दायर करने वाले बैंकों में स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, कॉर्पोरेशन बैंक, फेडरल बैंक लिमिटेड, आईडीबीआई बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, जम्मू एंव कश्मीर बैंक और भी कई भारतीय बैंक के इसमें शामिल है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here