बिना इजाजत के ही जिग्नेश समर्थक कर रहे रैली, पार्लियामेंट स्ट्रीट पर बढ़ाई गई सुरक्षा

गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवाणी भारत की राजधानी दिल्ली में प्रस्तावित हुंकार रैली करने वाले हैं, लेकिन इससे पहले ही विवाद का दौर शुरू हो चुका है. मोदी सरकार के खिलाफ हल्लाबोल करने से पहले जिग्नेश मेवानी के समर्थकों ने परमिशन लिए बिना ही रैली का आयोजन कर दिया. जिसके बाद जिग्नेश मेवाणी के समर्थक उनके साथ पुलिस के सामने आ गए हैं. दिल्ली में जिग्नेश मेवाणी की रैली को देखते हुए पार्लियामेंट स्ट्रीट पर भारी सुरक्षा फोर्स की तैनाती की गई है. यहां तक कि पुलिस अंबेडकर पार्क पहुंच गई है, अंबेडकर पार्क में जिग्नेश मेवाणी अंबेडकर को श्रद्धांजलि देने पहुंचेंगे. पार्लियामेंट स्ट्रीट पर जिग्नेश मेवानी के खिलाफ पोस्टर लगाए गए पोस्टर में जिग्नेश मेवानी पर कई सारे आरोप लगाए गए हैं. जिनमें से भड़काऊ भाषण देना और नक्सलियों से संबंध कथा जातीय हिंसा करवाने का आरोप शामिल है.

mevani

रैली का आयोजन कार्यकर्ताओं में से एक ने कहा है कि पुलिस की ओर से किसी भी प्रकार की कोई जानकारी नहीं दी गई है. युवक ने बताया कि पीएम आवास तक वह मार्च नहीं करने वाले हैं, लेकिन एक प्रतिनिधिमंडल मनुस्मृति और संविधान को साथ लेकर पीएम मोदी से मिलेंगे. अनुमान लगाया जा रहा है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश की भीम आर्मी जंतर-मंतर पर रैली में शामिल हो सकती है.

इस संबंध में दिल्ली के डीसीपी ने सोमवार को देर रात एक ट्वीट किया था. इसमें लिखा था कि एनजीटी के आदेशों के बाद अभी तक पार्लियामेंट स्ट्रीट पर प्रस्तावित प्रदर्शन को दिल्ली पुलिस की तरफ से इजाजत या स्वीकृति नहीं दी गई है. ट्वीट में यह बताया गया था कि प्रदर्शकों को किसी दूसरी जगह जाने की सलाह दी गई है, लेकिन वह इस सलाह को नहीं मान रहे हैं . DCP के ट्वीट के बाद हुंकार रैली का आयोजन कर रहे लेफ्ट संगठन इसके विरोध में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी छात्र संघ की पूर्व उपाध्यक्ष और लेफ्ट छात्र नेता शहला राशिद की तरफ से ट्वीट किया गया. जिसमें DCP के ट्वीट को रीट्वीट किया गया था और लिखा गया था कि DCP सर रैली तो वहीं करेंगे.

आपको बता दें कि एनजीटी ने पिछले साल 5 अक्टूबर को अधिकारियों को जंतर-मंतर पर धरना प्रदर्शन लोगों का जमा होना भाषण देना और लाउडस्पीकर के इस्तेमाल संबंधी गतिविधियों को रोकने का आदेश दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here