2019 का ‘रोजा इफ्तार प्लान’, राहुल के न्योते पर जुटेगा विपक्ष ?

कांग्रेस की तरफ से एक बार फिर से सभी विपक्षी दलों को एकजुट करने की तैयारी की गई है. इसके लिए इस बार कांग्रेस ने रोजा इफ्तार का सहारा लिया है. रोजा इफ्तार के बहाने राहुल की ओर से पहली बार विपक्ष के सभी प्रमुख नेताओं को न्योता दिया गया है. जबकि इससे पहले यूपीए की अध्यक्षा सोनिया गांधी की ओर से निमंत्रण दिया जाता रहा है.

rahul gandhi roza iftar program opposition party alliance 2019 election rahul gandhi, roza iftar program, opposition party alliance, 2019 election
rahul gandhi

राहुल के बुलाने पर विपक्ष के कौन-कौन नेता एकजुट होते हैं ये तो वक्त ही बताएगा लेकिन इस पर सभी की नजर हैं. कांग्रेस दो साल के अंतराल के बाद रोजा इफ्तार का आयोजन करने जा रही है. इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष रहने के दौरान सोनिया गांधी ने 2015 में इफ्तार पार्टी का आयोजन किया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली बीजेपी को 2019 में मात देने के लिए विपक्षी दल आपस में एकजुट होने की गुहार लगा रहे हैं.

यूपी में सपा, बसपा और आरएलडी एकजुट हो रहे हैं. जबकि टीएमसी प्रमुख और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बीजेपी से मुकाबला करने के लिए वन-टू-वन का फॉर्मूला दिया दिया है. वहीं कांग्रेस सभी विपक्षी दलों को एक साथ लाने की कवायद में जुटी है. कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में विपक्ष के तकरीबन सभी दल एकजुट हुए थे. इसमें पूरब से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक के गैर बीजेपी नेता शामिल थे. इस दौरान ममता से लेकर सीताराम येचुरी और अखिलेश से लेकर मायावती तक एक साथ मंच पर नजर आए थे. इस समारोह की एक खास तस्वीर वायरल भी हुई थी.कांग्रेस अध्यक्ष के तौर राहुल गांधी ने पहली बार रोजा इफ्तार के बहाने विपक्षी दलों को न्योता दिया है. राहुल के लिए विपक्ष को एकजुट करना किसी अग्निपरीक्षा से कम नहीं है. वो भी ऐसे समय में जब विपक्ष के कई नेता हैं जो 2019 में विपक्ष का चेहरा बनने की कोशिश में है.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here