ट्विटर पर सहिष्णुता दिखाते भारतीय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्विटर हैंडल को देखकर लगता है कि भारतीयों में सहिष्णुता कूट-कूट कर भरी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस नेता सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ ट्वीट करने से ज्यादा, सकारात्मक ट्वीट करने पर उनके ट्विटर हैंडल को लाइक करने वालों की संख्या बढ़ गई है. जबकि मणिशंकर अय्यर द्वारा पीएम को नीच कहने और डॉ. अम्बेडकर को एक परिवार ने भुलाने की कोशिश वाले भाषण को लाइक करने वालों की संख्या काफी कम है. राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर बधाई देने के ट्वीट को करीब 46 हजार लोगों ने लाइक किया जबकि सोनिया गांधी को जन्मदिन की बधाई देने वाले ट्वीट को 33 हजार लोगों के लाइक किया. प्रधानमंत्री के ट्वीट को लाइक करने वालों को संख्या हाल के दिनों में 6 से 9 हजार के बीच रहती है जो कभी कभी बढ़कर 15 हजार तक चली जाती है. एक बार यह संख्या 29 हजार तक गई थी.

people love affirmative tweet of pm modi and rahul gandhi soniya gandhi manishankar ayyer    people love, affirmative tweet, pm modi, rahul gandhi, soniya gandhi, manishankar ayyer, bjp, congress, aap, india, pmo, congress president
affirmative tweet

पिछले हफ्तेभर के ट्वीट संदेशों की समीक्षा की जाए तो एक रोचक पहलू उभर कर आ रहा है कि भारतीय लोग बुराई के बजाए अच्छाई को पंसद करते हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष राहुल गांधी के ट्वीट संदेशों में सकरात्मक ट्वीटों को लोगों ने ज्यादा पसंद किया. राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर प्रधानमंत्री के ट्वीट को 46 हजार से ज्यादा लोगों ने पंसद किया और करीब 7700 लोगों ने रीट्वीट किया. जिसके बाद उनका प्रधानमंत्री का धन्यवाद करने के संदेश को भी 20 हजार से अधिक लोगों ने लाइक किया. इसी तरह से सोनिया गांधी को उनके जन्मदिन 9 दिसम्बर को दिये गये बधाई संदेश को भी 32 हजार लोगों ने पंसद किया. अंदाजा लगाया जा रहा है कि हो सकता है कि प्रधानमंत्री और राहुल गांधी के संयुक्त फॉलोवरों ने मिलकर ट्वीट को लाइक किया हो.

दूसरी तरफ मणिशंकर अय्यर का प्रधानमंत्री को नीच कहने और प्रधानंमत्री को हर गुजराती और गुजरात का अपमान कहने वाले ट्वीट को ज्यादा लोगों ने पसंद नहीं किया. नीच शब्द को लेकर मोदी के ट्वीट को 18 हजार लोगों ने लाइक किया जबकि राहुल गांधी का मणिशंकर को डांटना और प्रधानमंत्री से माफी मांगने के ट्वीट को 29 हजार से अधिक लोगों ने लाइक किया. गुजरात में 22 साल के शासन पर प्रधानमंत्री से सवाल पूछने पर राहुल गांधी ने पांच दिसम्बर को आठवें सवाल में गलत आंकड़े पेश कर दिये थे, जिसकी आलोचना हुई तो राहुल ने गलती स्वीकार करते हुए लिखा, ‘मैं भी इंसान हूं। गलती कर सकता हूं। आप ने ध्यान दिलाया, इसके लिए धन्यवाद, लव यू ऑल।’ इस ट्वीट को 36 हजार से अधिक लोगों ने पंसद किया.

9 दिसंबर को प्रधानमंत्री का डॉ. अम्बेडकर अंतरराष्ट्रीय केंद्र के उद्घाटन के मौके पर कांग्रेस के एक परिवार का अम्बेडकर की पहचान मिटाने की कोशिश करने वाले भाषण और ट्वीट को करीब 7 हजार लोगों ने ही लाइक किया. सामान्य तौर पर प्रधानंमत्री मोदी के ट्वीट संदेशों को लाइक करने वालों की संख्या 5 हजार से लेकर 10 हजार होती है. खास मौकों पर यह संख्या बढ़कर 29 हजार तक हो जाती है. गुजरात के पहले चरण के मतदान के बाद गुजरात के लोगों को धन्यवाद देने वाले संदेश को 29 हजार से अधिक लोगों ने लाइक किया जोकि एक सकारात्मक संदेश था. बड़ोदरा की रैली के फोटो को 26 हजार लोगों ने लाइक किया था. इधर राहुल गांधी का प्रधानमंत्री को रोज सवाल पूछने को भी लोग पंसद कर रहे हैं. उनके प्रश्नों को पंसद करने वालों की संख्या 12 हजार से लेकर 20 हजार से अधिक है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here