संसद हमला: 16वीं बरसी पर शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि, मोदी ने लगाया मनमोहन को गले

भारतीय संसद पर हुए हमले को बुधवार को 16 साल पूरे हो गए है. इस दिन शहिद हुए जवानों को पूरा देश श्रद्धांजलि दे रहा है. संसद पर हुए आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों को संसद परिसर में श्रद्धांजलि दी गई. देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, लोकसभा स्पीकर सुमित्रा माहाजन और विपक्षी नेता गुलाम नबी आजाद, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी, राहुल गांधी, एल के आडवाणी समेत देश के कई दिग्गज नेताओं ने आतंकी हमले में शहीद हुए वीर जवानों को श्रद्धांजलि दी. भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शहिदों को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि दी.

tribute

संसद पर हुए हमले की 16वीं बरसी पर विपक्षी नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा की इसी दिन पाकिस्तानी आतंकवादियों ने हमारे लोकतंत्र पर हमला भी किया था. नबी ने कहा की भारत देश के सभी राजनीतिक दल देश के लोकतंत्र की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और हम सब मिलकर लोकतंत्र को खत्म नहीं होने देंगे. अपने भाषण के अंत में नबी ने कहा की पाकिस्तान कितनी भी कोशिश कर ले लेकिन भारत का जो तीन रंगों का तिरंगा है वह हमेशा ही ऊंचा रहेगा.

साल 2001 में 13 दिसंमबर को संसद पर हमला हुआ था जिसमें पांच दिल्ली पुलिस के जवान शहीद हो गए थे. सीआरपीएफ की एक महिला अधिकारी, संसद के दो सुरक्षाकर्मी तथा् एक माली की मौत हुई थी. हमले को लश्कर ए तैयबा और जैश ए मोहम्मद के आतंकियों ने अंजाम दिया था. जिस दौरान हमला हुआ था उस वक्त संसद का शीतकालीन सत्र चल रहा था और वहां पर सौ से भी ज्यादा सांसद मौजूद थे. इस आतंकी हमले के बाद इसके मास्टरमाइंट अफजल गुरु को पुलिस ने पकड़ लिया था जिसके बाद साल 2013 में अफजल को फांसी की सजा दे दी गई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here