नोटबंदी अब सिक्काबंदी की तैयारी में मोदी सरकार

मोदी सरकार ने पहले ही अपने कार्यकाल में कई आर्थिक बड़े बदलाव कर चुकी है. पीएम नरेंद्र मोदी के शासनकाल में साल 2016 में 8 नवंबर को 500 और 1000 के नोट को चलन से बेदखल कर दिया गया था. एक बार फिर से मोदी सरकार कुछ ऐसा ही करने वाली है. मिली जानकारी के मुताबिक मोदी सरकार नोटबंदी के बाद ‘सिक्का बंदी’ करने वाली है. देश की चारो टकसालों में इनके निर्माण के काम को बंद कर दिया गया है.

मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार आरबीआई के अधिकारी ने बताया है कि नोएडा, कोलकाता, मुंबई और हैदराबाद के सरकारी टकसालों में सिक्कों का प्रदर्शन होना बंद कर दिया गया हैं. आरबीआई के अधिकारी ने बताया कि नोटबंदी के बाद काफी बड़ी मात्रा में सिक्कों का प्रोडक्शन हुआ था, जो अभी भी रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पास पड़े हुए हैं. नोटबंदी के बाद सिक्कों की बड़ी संख्या आम जनता के लिए भी परेशानी का कारण बन चुकी है.

आपको बता दें कि छोटे दुकानदार अपने ग्राहकों से सिक्का लेने में हिचकिचाते हैं और कुछ दुकानदार तो ग्राहकों से पांच और 10 रुपए के सिक्के लेते ही नहीं हैं. साथ ही 1 और 2 के सिक्के को लेने से साफ मना कर देते हैं. वर्तमान समय में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पास स्टोरेज में 2500 (एमपीसीएस) सिक्कों का स्टोरेज है. इसे खपना रिजर्व बैंक के लिए एक बहुत बड़ी चुनौती बन चुका है. इस मामले में बैंकों की दलील है कि कर्मचारियों की कमी के कारण से सिक्का जमा नहीं ले पा रहे हैं. बैंक अधिकारियों का कहना है कि सिक्का गिनने में काफी समय लगता है, जिस से बैंक का काफी कामकाज प्रभावित होता है. भारत में सिक्का नहीं लेने के मामलों में मारपीट तक की नौबत आ जाती हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here