लव जिहाद मामला: सुप्रीम कोर्ट ने कहा हादिया ने अपनी मर्जी से की शादी, नहीं कर सकती एनआईए जांच

केरल लव जिहाद केस में सुप्रीम कोर्ट ने कहां है की हादिया अपनी मर्जी से शादी की बात को कह रही है तो ऐसे में कोर्ट शादी को कैसे अवैध ठहरा सकता है. कोर्ट का कहना है कि यदि हादिया को कोई समस्या नहीं है तो यह मामला यही पर खत्म है. दूसरी ओर लड़के के क्रिमिनल बैकग्राउंड की बात है तो उसकी जांच करवाई जा सकती है, लेकिन शादी की जांच का हक किसी को नहीं है.

सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि यह है विवाह विवाद से बिल्कुल परे है. हादिया बालिक है और इस पर ना तो पक्षकारों को सवाल उठाने का हक है और ना ही किसी जांच एजेंसी को. इस विवाह की जांच एनआईए नहीं कर सकती. हदिया लव जिहाद केस की सुनवाई चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुवाई में तीन सदस्य बेंच कर रही है. इस केस की अगली सुनवाई 22 फरवरी को होनी है.

हादिया के पिता अशोकन के वकील ने कहा है कि हम आशा करते है कि एनआईए अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में पेश करेगी. कोर्ट हादिया को पढ़ाई जारी रखने की अनुमति देगी. हम लोगों को बहुत खुशी है कि हादिया सुरक्षित है. अरे इस केस में अपनी चौथी स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने जा रही है. आरोप है कि हादिया0 का पति आईएसआईएस के संपर्क में था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here