चारा घोटाला: नया साल जेल में मनाएंगे लालू यादव, 3 जनवरी को होगा सजा का ऐलान

चारा घोटाला मामले में लालू यादव की मुश्किलें अब खत्म होने के नाम ही नहीं ले रही हैं. आरजेडी प्रमुख लालू यादव को रांची स्थित सीबीआई की विशेष अदालत में सुनवाई के बाद दोषी करार दिया गया है. जिसके बाद अब लालू यादव कोर्ट से सीधा जेल जाने वाले हैं. ऐसे में लालू यादव के जेल जाने के बाद प्रदर्शन होने का भी अनुमान लगाया जा रहा है. इसलिए कोर्ट के बाहर सुरक्षा को और भी ज्यादा कड़ी कर दिया गया है.

lalu found guilty in follder scam cbi speical court ranchi lalu found guilty, flooder scam, cbi speical court, ranchi, tejashwi yadav, bihar, patna
LALU YADAV

जहां लालू को एक केस में दोषी पाया गया है तो दूसरी तरफ बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा, ध्रुव भगत को इस केस में हरी झंडी दे दी गई है. शनिवार को पेशी के लिए लालू यादव जगन्नाथ मिश्रा के साथ 22 अभियुक्त कोर्ट में पहुंचे थे. लालू यादव अपने बेटे और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के साथ कोर्ट में पहुंचे थे. केस में कुल 38 आरोपी बनाए गए थे जिनमें से तीन सरकारी गवाह बने और 11 लोगों का निधन हो चुका है.

केस में दो लोगों ने अपना जुर्म कबूला था. जिनको साल 2006-07 में सजा सुनाई गई थी.

 

वही पेशी से पहले लालू यादव का कहना है कि सीबीआई कोर्ट में चाहे फैसला कुछ भी आए लेकिन लोगों के संयम बरतना होगा. लालू यादव के अनुसार वह बिहार की जनता के आभारी हैं और उन्हें कोर्ट के न्याय पर पूरा भरोसा भी है. लालू यादव ने इस दौरान भी बीजेपी पर निशाना साधा है और कहा है कि कोर्ट में चाहे कुछ भी फैसला आ जाए लेकिन हर व्यक्ति लालू यादव बनकर बीजेपी पर हमला करेगा. लालू ने कहा कि उनके साथ उनका बेटा तेजस्वी यादव है जिसे पूरा देश देख रहा है. लालू के अनुसार बीजेपी उन्हें और उनके परिवार को बेवजह परेशान करने में लगी हुई है. लेकिन अगर एक लालू यादव को जेल भेजा जाएगा तो लाखों लालू यादव और पैदा हो जाएंगे और बीजेपी पर हमला करेंगे.

आपको बता दें कि चारा घोटाले मामले में इस वक्त पूरे देश की नजरें बनी हुई हैं. ऐसे में आरजेडी के कई और दिग्गज नेता रांची स्थित सीबीआई स्पेशल कोर्ट पहुंचने में लगे हुए हैं. जानकारी है कि कोर्ट का फैसला आने के बाद मीडिया से पार्टी के नेता वार्तालाप करेंगे. चारा घोटाला मामले में फैसले शनिवार को आ सकता है इसलिए कोर्ट की सुरक्षा और भी ज्यादा कड़ी कर दी गई है. वही दूसरी तरफ लालू के बेटे तेजस्वी यादव का कहना है कि उनके पिता गरीबों के लिए सदैव खड़े रहते हैं और वह बचपन काल से देख रहे हैं कि किस तरह लालू यादव ने गरीबों के लिए लड़ाई की है.

चारा घोटाला मामला साल 1994 में बिहार के देवघर, गुमला, रांची, पटना, चाईबासा और लोहरदगा समेत और भी कई सारे कोषागारों से फर्जी बिलों के जरिए कई करोड़ों रुपयों की अवैध निकासी का मामला है. इस मामले में कई सारी गिरफ्तारियां भी हुई हैं. जिसके बाद पटना हाईकोर्ट की तरफ से इस मामले में सीबीआई जांच शुरु की गई थी जिसके बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू यादव का नाम भी सामने आने के बाद यह मामला और भी ज्यादा गर्मा गया था. जिसके बाद 34 आरोपियों पर कोर्ट में चार्जशीद दाखिल की गई थी. इस मामले में दो आरोपियों को सरकारी गवाह बनाया गया तथा तीन आरोपियों का निधन हो चुका है. इसमें मुख्य आरोपी के तौर पर लालू, जगन्नाथ मिश्र, जगदीश शर्मा, आरके राणा, विद्यासागर निषाद आदि लोगों का नाम शामिल है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here