परंपरागत साधु-संतों से अलग थे जयेंद्र सरस्वती, कई बार विवादों में भी रहे

बुधवार सुबह कांची मठ के प्रमुख शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती का निधन हो गया है. स्वास्थय खराब होने के कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. उनका निधन 82 साल की उम्र में हुआ है. कांची मठ देश के प्राचीन नगरों में से एक है जिसके शंकराचार्य 69वें प्रमुख थे. जयेंद्र सरस्वती कांची मठ पीठ के 69वें मठ प्रमुख 1954 में शंकराचार्य बने थे.

इससे पहले जयेंद्र सरस्वती स्वामी ने 22 मार्च 1954 को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया था. उस वक्त वह मात्र 19 साल के थे. जयेंद्र सरस्वती के बारे में अगर कोई बात की जाए तो 18 जुलाई 1935 तमिलनाडु के तंजौर जिले में उनका जन्म हुआ था. मात्र 19 साल की उम्र में उन्होंने संसारिक जीवन का त्याग कर दिया था और वह सन्यासी बन गए थे. उनके लाखों की संख्या में अनुयायी लेकिन वह पारंपरिक साधुओं की तरह नहीं थे. वह कई सारे वेदों के ज्ञाता थे उन्हें धर्मशास्त्र वेदांत, ऋग्वेद, उपनिषद, व्याकरण न्याय तथा सभी हिंदू धर्मों के ग्रंथों का कंठस्थ था.

श्रीदेवी की उनके अनुयायियों के मुताबिक साधना उनकी असीम भक्ति के अनुरूप थी. वह कम मात्रा में भोजन ग्रहण करते थे और सुविधाजनक बिस्तर पर नहीं सोते थे. वह इंसान के सभी शारीरिक सुख ओर से दूर रहते थे. जयेंद्र सरस्वती को काफी सारे अस्पताल चाइल्ड केयर सेंटर, स्कूल कॉलेज खोलने का श्रेय दिया जाता है. जिसमें कांची मठ की तरफ से इन संस्थाओं को मुफ्त या सब्सिडी पर अपनी सेवाएं प्रदान करता है.

आपको बता दें कि जय हिंद सरस्वती कई बार विवादों के कारण भी सुर्खियों में रहे हैं. साल 2000 में दिल्ली के महरौली इलाके में उन्होंने जमीन की कीमतों में अपनी दिलचस्पी दिखाई थी. उन्हें आए दिन कई सारे धार्मिक समारोह में बुलाया जाता था जिसके बाद साल 2004 में जयेंद्र सरस्वती को कांचीपुरम के मंदिर में मैनेजर संक्रमण की हत्या के संबंध में गिरफ्तार किया गया था लेकिन नौ साल बाद उन्हें आरोप से मुक्त भी कर दिया गया था.

 

अन्य बड़ी खबरें-

मध्यप्रदेश उपचुनाव परिणाम 2018: दोनों जिलों में कांग्रेस ने बना रखाी है बढ़त

अपने पीछे इतनी दौलत छोड़ गई श्रीदेवी

अलविदा श्रीदेवी : मौत के पीछे छुपा राज

RHC में निकली भर्तियां, जल्द करें आवेदन

दुनिया की सबसे बड़ी भर्ती के लिए करें जल्द आवेदन

आनंद महिंद्रा ने दिया एप्पल के को-फाउंडर को करारा जवाब, जाने क्यों

एक ही झटके में चली गई हजारों नौकरियां, जाने क्या है मामला

आता है ज्यादा पसीना, तो हो जाएं सावधान

जानें करोड़पति गांव की कहानी

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here