बिटकॉइन में निवेश करने वाले 10,000 लोगों को, आईटी विभाग ने भेजा नोटिस

कुछ समय से बिटकॉइन है लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा लिया है. बिटकॉइंस एक वर्चुअल करेंसी हैं. इस करेंसी को भेजकर बहुत से लोगों ने अच्छा खासा फायदा उठाया है. इस मामले को देखते हुए भारत के 10,000 लोगों को इनकम टैक्स विभाग ने नोटिस भेजा है. विभाग ने देशभर में किए गए सर्वे के आधार पर पता लगाया है कि बीते 17 महीनों के दौरान 3.5 बिलियन की ट्रांजैक्शन हुई है. जिसके बाद विभाग ने नोटिस भेजने का फैसला किया है. मुंबई, दिल्ली, पुणे, बेंगलुरु सहित 9 एक्सचेंज से डाटा इकट्ठा करने के बाद नोटिस भेजे गए हैं.

टैक्स अधिकारियों के बताए जाने के मुताबिक बिटकॉइन और दूसरी वर्चुअल करेंसी में निवेश करने वाले लोगों में अत्यधिक युवा निवेशक, टेक-सेवी, ज्वेलर्स और रियल स्टेट प्लेयर्स शामिल है. दुनिया भर की सरकारें इस क्रिप्टो करेंसी पर शिकंजा कसने की कोशिश कर रही है. सरकारों ने कहा है कि इसके जरिए काले धन को सफेद करने के साथ ही टैक्स बचत करने के रास्ते तलाशे जा रहे हैं. मार्च महीने में अर्जेंटीना में होने वाली जी-20 बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा होने के आसार हैं.

भारतीय सरकार इस वर्चुअल करेंसी में निवेश करने वाले सभी निवेशकों को लगातार चेतावनी जारी कर रही है. सरकार ने दावा करते हुए कहा है कि, यह है पोंजी स्कीम है, जोकि शुरुआती निवेशकों को बहुत ज्यादा रिटर्न देने का वादा करता है. लगातार भारतीय सरकार द्वारा दी जा रही चुनौतियों का निवेश को पर कोई असर नहीं दिखाई दे रहा है. लगातार हर महीने 20 लाख लोग इसमें निवेश कर रहे हैं. इस मामले की जांच कर रहे महानिदेशक बीआर बालकृष्ण ने बताया कि हम आंख बंद नहीं कर सकते. इस करेंसी की वैधता पर फैसला आने का इंतजार करना विनाशकारी साबित हो सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here