हिमाचल घमासान शाम चार बजे तक 65 प्रतिशत हुई वोटिंग

हिमाचल प्रदेश में हो रहे 68 विधानसभा सीटों पर चुनाव संपन्न हो गए हैं। शाम 4 बजे तक के आए आंकड़ों के अनुसार पूरे हिमाचल में करीब 65 फीसदी वोटिंग हो गई है। जुब्बल कोटखाई क्षेत्र में सबसे ज्यादा 75 फीसद मतदान हुआ है,जिसके बाद कुल्लू क्षेत्र जहां 71 फिसदी तक मतदान हुआ है। शिमला की बात करें तो शिमला के शहरी इलाकों में जहां 66 प्रतिशत तक मतदान हुआ है, तो वही शिमला के ग्रामीण इलाकों में महज 62 फ़ीसदी तक मतदान हुआ है। बात करें हिमाचल प्रदेश के सबसे छोटे पोलिंग बूथ रानी मंडी पुलिस स्टेशन की जहां पर 18 बुजुर्गों को ही मतदान करना था। मौजूदा आंकड़ों के अनुसार 18 में से 16 बुजुर्ग मतदान कर चुके हैं।

himachal voting

इस चुनाव के संपन्न होते ही हिमाचल प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है। जिस प्रदेश ने ईवीएम के साथ-साथ वीवीपैट के द्वारा चुनाव को संपन्न किया है। आपको बता दें की हाल में हुए पांच राज्यों के चुनाव में विपक्षी दलों ने आरोप लगाया था की सत्ताधारी पार्टी ने ईवीएम में गड़बड़ी करके यह जीत हासिल की है। चुनाव आयोग को भी कटघरे में खड़ा किया गया लेकिन चुनाव आयोग ने चुनौती देते हुए हर दल को ईवीएम हैक करने का खुल्ला चैलेंज दिया था जिसे ज्यादातर दलों ने बायकाट किया था। उसके बाद से ही इलेक्शन कमीशन पर दबाव बनाया जा रहा था कि वह ईवीएम के साथ-साथ वीवीपैट मशीन भी मुहैया कराए ।

वीवीपैट मशीन में आप जैसे ही वोट डालते हैं 7 सेकंड तक के लिए एक पर्ची निकलती है जिसमें वह निशान बना होता है जो आप ने ईवीएम बार दबाया हो। जैसे कि मान लीजिए अगर आपने घड़ी के सामने वाला बटन दबाया है तो वह घड़ी का निशान वीवीपैट से निकलेगा और वह 7 सेकंड देखने के बाद एक नीचे पड़े डब्बे में गिर जाएगा । इस चुनाव में एक रोचक बात और भी है देश के पहले मतदाता कहे जाने वाले श्याम शरण नेगी ने 32वीं बार अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। आपको बता दें आजाद भारत में पहला मत देने वाले श्याम शरण नेगी ही थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here