अलगाववादियों से आज होगी बातचीत, हुर्रियत नेताओं ने किया विरोध

घाटी में इन दिनों हालात बेहद ही तनावपूर्ण बने हुए हैं। इस बीच कश्मीर में शांति बहाल करने के लिए केंद्र की तरफ से कोशिश की गई है। जिसके लिए अलगाववादी नेताओं के साथ बातचीत के माध्यम से हल निकालने की कोशिश की जाएगी। इसके लिए पूर्व आईबी चीफ दिनेश्वर शर्मा सोमवार से बातचीत शुरु करने वाले हैं। लेकिन दूसरी तरफ कश्मीर में शांति के लिए बातचीत के रास्ते से हुर्रियत नेताओं की तरफ से विरोध किया गया है।

dineshwar sharma

वही दिनेश्वर शर्मा का कहना है कि घाटी में शांति स्थापित करने के लिए उनके पास कोई जादू नहीं है। दिनेश्वर शर्मा का कहना है कि घाटी में शांति बनाए रखने के लिए वह पूरी कोशिश करेंगे। दिनेश्वर शर्मा को केंद्र की तरफ से कश्मीर में शांति बहाल के लिए बातचीत करने के प्रतिनिधि के तौर पर बीते 24 अक्टूबर को नियुक्त किया था। केंद्र की तरफ से दिनेश्वर शर्मा को कैबिनेट सचिव के पद पर बैठाया गया है। इस सब पर दिनेश्वर शर्मा का कहना है कि बिना बातचीत किए किसी भी नतीजे पर पहुंचना बेकार है।

दिनेश्वर शर्मा इससे पहले आई (इंटेलिजेंस ब्यूरो) के प्रमुख भी रह चुके हैं। हालांकि दूसरी तरफ सूत्रों के हवाले से खबर है कि कश्मीर में शांति बहाली के लिए बातचीत के रास्ते का विरोध हुर्रियत नेताओं की तरफ से किया जा रहा है। सूत्रों के हवाले से खबर है कि केंद्र की तरफ से की जा रही शांति को हुर्रियत नेता बेबुनियादी बता रहे हैं। तथा उनका कहना है कि अगर कोई इस बातचीत में हिस्सा लेगा तो वह अपना वक्त बर्बाद करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here