बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले को हुए 25 साल पूरे

अयोध्या में विवादित बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले को आज 6 दिसंबर को 25 साल पूरे हो गए हैं. इस मौके पर कोई असमाजिक तत्व उपद्रव नामाचा दे इसके लिए केंद्र ने राज्यों को एडवाइजरी जारी करके कहां है कि वह हर सूरते हाल में शांति कायम रखें. हालांकि एडवाइजरी में किसी का नाम सीधे तौर पर किसी का नाम नहीं लिया गया है पर माना जा रहा है कि दोनों ही पक्षों में कि तरफ से धरना प्रदर्शन और विरोध प्रदर्शन आयोजित किया जा सकता है.

मंगलवार को ही इस मामले की निर्णायक सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुई थी, जिसमें कोर्ट ने अगली तारीख में सुनवाई करने का फैसला किया. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की अगली सुनवाई 8 फरवरी 2018 को तय की गई है. उत्तर प्रदेश सरकार ने फॉरेन एडवाइजरी का पालन करते हुए अयोध्या छावनी में तब्दील कर दिया है. अयोध्या की सुरक्षा के लिए चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात हैं. अयोध्या को 4जोन व 10 सेक्टर में बांट कर निगरानी की जा रही है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम है और वह हर चुनौती से निपटने के लिए तैयार हैं. इसके साथ उन्होंने यह भी बताया कि श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा नहीं होगी.

इस मामले में आज 25 साल पूरा होने पर मशहूर ज्वैलरी डिजाइनर फराह खान ने भी ट्वीट करा. उन्होंने अपने ट्वीट में वरिष्ट बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी को देश को विभाजित करने वाला बताया. मंगलवार को लिखे अपने ट्वीट में उन्होंने यह साफ-साफ लिखा ‘लालकृष्ण आडवाणी अपनी यात्रा के दौरान देश को विभाजित करने वाली दिशा में आग लगाई थी, उसके बाद बाबरी मस्जिद गिराई थी. जिसने भारत का प्रधानमंत्री बनने का ख्वाब देखा था. वह कुछ भी नहीं एक बूढ़ा व्यक्ति जो टूटे हुए सपनों के साथ जीता है जब आप किसी का अच्छा नहीं कर चले तो आपके साथ कभी अच्छा नहीं हो सकता #बुरे कर्म’.

फराह खान के इस ट्वीट के बाद मानव ट्विटर पर भूचाल आ गया. कई लोगों ने इस पर मिली-जुली प्रतिक्रिया दी. कुछ लोग इस ट्वीट के समर्थन में खड़े हैं तो कुछ ने इसका कड़ा विरोध करा. इस ट्वीट के रिप्लाई में एक ट्वीट ऐसा भी था जिसमें आडवाणी का समर्थन करते हुए व्यक्ति ने लिखा था ‘क्या आप भूल गए आडवाणी गृहमंत्री से पूर्व उप-प्रधानमंत्री बने, उसके बाद 10 साल तक विपक्ष के नेता रहे’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here