वायु सेना के कमांडो JP निराला को मरणोपरांत किया जाएगा अशोक चक्र से सम्मानित

भारतीय वायु सेना के कमांडो ज्योति प्रकाश निराला को मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया जाएगा. यह सम्मान सबसे बड़ा सैन्य सम्मान होता है, यह सम्मान शांति के समय दिया जाता है. बीते साल निराला ने जम्मू-कश्मीर के हाजीन क्षेत्र में आतंकियों के साथ एनकाउंटर में अपने दम पर ही 2-3 आतंकियों को ढेर कर दिया था. इस एनकाउंटर में सेना के जवानों ने कई आतंकियों को मार गिराया था. जिनमें से एक आतंकी लश्कर-ए-तैयबा आतंकी संगठन के चीफ जकी-उर-रहमान लखवी का भतीजा था. गणतंत्र दिवस के मौके पर सम्मानित होने वाले जवानों की सूची अभी जारी नहीं की गई है, सूत्रों के हवाले से यह जानकारी मिली है.

जिस वक्त ज्योति प्रकाश निराला देश की रक्षा करते हुए शहीद हुए उस वक्त उनकी उम्र महज 31 साल थी. निराला बिहार के रोहतास जिले के रहने वाले थे. निराला वायु सेना के पहले एयरमैन है, जिन्हें ग्राउंड ऑपरेशन के लिए मरणोपरांत यह सम्मान दिया जाएगा. निराला देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गए और अपने पीछे परिवार में बेटी और विधवा पत्नी को छोड़ गए. इसके अलावा भी निराला की तीन अविवाहित बहने और बूढ़े मां बाप भी है.

इससे पहले फ्लाइंग ऑफिसर निर्मलजीत सिंह सेखोन को सन् 1971 के युद्ध में साहस दिखाने के लिए मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था. स्कवॉड्रन लीडर राकेश शर्मा को भी सन् 1984 में अशोक चक्र से सम्मानित किया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here