मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने किया ट्रिपल तलाक का विरोध

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने संसद में पेश होने वाला तीन तलाक कानून का पुरजोर विरोध किया है. इसके साथ मुस्लिम लॉ बोर्ड ने केंद्र सरकार पर यह आरोप लगाते हुए कहा कि उनसे इस बारे में कोई सलाह-मशवरा नहीं किया गया है.


ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने रविवार को एक इमरजेंसी बैठक बुलाई. इस बैठक में लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी और जफरयाब जिलानी जैसे कद्दावर नेताओं ने शिरकत की. इस बैठक में तय किया गया कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रेसिडेंट भारत के प्रधानमंत्री से मिलेंगे. प्रधानमंत्री से वह तीन तलाक वाला बिल संसद में ना पेश करने की अपील करेंगे. बता दे वर्किंग कमेटी के कुल 51 मेंबरों को बुलाया गया था. जिसमें ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड के चेयरमैन मौलाना राबे हसन नदवी, मौलाना सईद मोहम्मद वली रहमानी, मौलाना खालिद सैफुल्लाह रहमानी समेत कहीं जानी मानी हस्तियां थी.

आपको बता दें इसी साल सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया था. जिसके बाद मोदी सरकार ने तीन तलाक पर कड़ा कानून लाने का फैसला किया था. सरकार की कोशिश है कि वह इसी शीतकालीन सत्र में इस बिल को सर्वसम्मति से पास करवाए. इससे पहले यह बिल मोदी कैबिनेट द्वारा पास किया जा चुका है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here