राजधानी में आतंकी फंडिंग का भंडाफोड़, एनआईए ने जब्त किए 36 करोड़ की पुरानी करेंसी

जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी टेरर फंडिंग के मामले में लगातार कार्रवाई करने में लगी हुई है। एक के बाद एक एनआईए को आतंकी फंडिंग के मामले में अहम दस्तावेज हाथ लग रहे हैं। लेकिन देश राजधानी दिल्ली से एक बहुत बड़े टेरर फंडिंग मामले का भंडाफोड़ हुआ है। एनआईए को इस कार्रवाई के दौरान 36 करोड़ कीमत की पुराने नोट जप्त हुए हैं।

terror funding case

एनआईए ने अपनी कार्रवाई करते हुए 9 लोगों को गिरफ्तार किया है। सूत्रों के अनुसार खबर है कि इस अड्डे से आईएसआई के लिंक संभव हैं। यहां तक कि कई सारे आतंकी संगठनों को भी यहां से फंडिंग की जाती है। सूत्रों के हवाले से खबर है कि एनआईए ने 36 करोड़ 34 लाख 75 हजार 500 रुपए के पुराने नोट की जब्त किए हैं। सूत्रों के अनुसार इस भारी नकदी का इस्तेमाल कश्मीर में अशांति फैलाने के लिए किए जाने वाला था।

आपको बता दें कि सोमवार रात को मुठभेड़ के दौरान सुरक्षा बलों ने जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के भतीजे को मार गिराया था ऐसे में खबर इस प्रकार है कि इतनी भारी नकदी का उपयोग घाटी में आतंकवादियों को पनाह देने के लिए किया जाने वाला था हालांकि देखने वाली बात यह है कि यह नोट पुराने हैं इसलिए इनका उपयोग किस तरह और कैसे किया जाता इसका एनआईए अभी तक जांच में लगी हुई है। अभी तक जानकारी मिली है कि इस मामले में 9 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

देखने वाली बात यह है कि जब से नोटबंदी हुई है तब से आतंकी फंडिंग पर काफी मात्रा में है रोक लगाई जा सकी है। लेकिन फिर भी ऐसे-ऐसे मामले सामने आ रहे हैं जिसमें पुराने नोटों का उपयोग किया जा रहा है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि इन नोटों को किस तरह से चलाया जाएगा इस मामले में एनआईए लगातार कार्रवाई करने में लगी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here